सावित्रीबाई फुले के कार्य और विचार क्या थे जिनकी वजह से उन्हें आज भी जाना जाता है

दोस्तों सावित्रीबाई फुले का जन्म 3 जनवरी, 1831 को सतारा, मुंबई, महाराष्ट्र में हुआ था।

सावित्रीबाई फुले महाराष्ट्र की एक भारतीय समाज सुधारक, शिक्षाविद् और कवियित्री थीं।

सावित्रीबाई फुले ने काव्या फुले और बावन काशी सुबोध रत्नाकर को प्रकाशित था। 

सावित्रीबाई फुले ने हर तरह से महिलाओ को सशक्त बनाने की पूरी कोशिश की। 

सावित्रीबाई फुले ने महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक रहने के लिए महिला सेवा मंडल की स्थापना की।

सावित्रीबाई ने महिलाओं के लिए एक बैठक स्थल का भी आह्वान किया जो जातिगत भेदभाव से मुक्त था।

सावित्रीबाई फुले एक शिशु हत्या विरोधी कार्यकर्ता भी थीं।

सावित्रीबाई फुले भारत की पहली महिला शिक्षक बनीं और अपने पति ज्योतिराव फुले के साथ लड़कियों के लिए एक स्कूल खोला।

सावित्रीबाई फुले की लगन और मेहनत की वजह से ही आज तक महिलाओ और दलितों को फिर से इज़्ज़त से देखा जाने लगा।

और डिटेल में सावित्री बाई फूले के बारे में जानने के लिए निचे बटन पर क्लिक करे |