जानिए कैसे बनी द्रौपदी मुर्मू पार्षद से राष्ट्रपति?

द्रौपदी मुर्मू का जन्म उड़ीसा के मयूरबांज जिले के छोटे से गांव बैदापोसी में हुआ था।

द्रौपदी मुर्मू आदिवासी परिवार में जन्मी पर उनका परिवार शिक्षित था। 

सबसे कम विकसित क्षेत्रों में रहते हुए, द्रौपदी मुर्मू महिला कॉलेज से स्नातक करने में सक्षम थी। 

द्रौपदी मुर्मू ने 1997 में नगर पंचायत के पार्षद बनने के बाद से अपनी राजनीतिक यात्रा शुरू की।

द्रौपदी मुर्मू ने भाजपा पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया।

द्रौपदी मुर्मू झारखंड की राज्यपाल बनने वाली पहली आदिवासी महिला थी।

द्रौपदी मुर्मू ने 25 जुलाई, 2022 को भारत के 15 वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली।

द्रौपदी मुर्मु अपनी निष्ठा और ईमानदारी की वजह से आज हमारे देश की राष्ट्रपति बन चुकी है।

द्रौपदी मुर्मू के के जीवन परिचय को विस्तार से जानने के लिए नीचे की ओर दी गयी लिंक पर क्लिक करें !