उपभोक्ता किसे कहते है, उदाहरण सहित समझाइए | Upbhokta kise kahate hain Udaharan Sahit Samjhaiye

उपभोक्ता किसे कहते है, उदाहरण सहित समझाइए | Upbhokta kise kahate hain Udaharan Sahit Samjhaiye

उपभोक्ता किसे कहते है, उदाहरण सहित समझाइए | Upbhokta kise kahate hain Udaharan Sahit Samjhaiye

उपभोक्ता किसे कहते है, उदाहरण सहित समझाइए | Upbhokta kise kahate hain Udaharan Sahit Samjhaiye – तो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में बात करेंगे उपभोक्ता के बारे में और जानने की कोशिश करेंगे की ये उपभोक्ता आखिर में है क्या और उपभोक्ता कहते किसे है तथा उपभोक्ता के क्या-क्या अधिकार होते है। तो दोस्तों चुकी आप सभी उपभोक्ता के बारे में जानने के बहुत इच्छुक है इसलिए आप सभी बने रहे हमारे साथ इस आर्टिकल के अंत तक ताकि आपके ज्ञान में और भी ज्यादा वृद्धि हो और आप कुछ नया ज्ञान प्राप्त कर सकें तथा सही समय आने पर अपने प्राप्त ज्ञान का सही जगह इस्तेमाल कर सकें :- उपभोक्ता किसे कहते है, उदाहरण सहित समझाइए | Upbhokta kise kahate hain Udaharan Sahit Samjhaiye

उपभोक्ता किसे कहते है, उदाहरण सहित समझाइए | Upbhokta kise kahate hain Udaharan Sahit Samjhaiye | उपभोक्ता किसे कहते है, उदाहरण सहित समझाइए | Upbhokta kise kahate hain Udaharan Sahit Samjhaiye | उपभोक्ता किसे कहते है, उदाहरण सहित समझाइए | Upbhokta kise kahate hain Udaharan Sahit Samjhaiye

उपभोक्ता क्या है | Upbhokta kya hai?

उपभोक्ता किसी भी व्यवसाय के लिए बहुत ही महत्वपर्ण व्यक्ति होता है, उपभोक्ता व्यापारियों से उनके जरुरत के अनुसार सामान खरीदते है। उपभोक्ता कोई भी हो सकता है पुरुष, महिला, बच्चे, बुजुर्ग यह सभी उपभोक्ता की श्रेणी में आते है।

-: उदाहरण :-

हम सभी अपनी जरुरत के हिसाब से कुछ न कुछ सामान खरीदते रहते है जो उस सामान को बाजार से खरीदने बाला व्यक्ति होता है वही उपभोगता कहलाता है।

उपभोक्ता किसे कहते है | Upbhokta kise kahate hain?

उपभोक्ता वह व्यक्ति होता है जो किसी वस्तु या सेवा का उपयोग करने के लिए बाजार से वह वस्तु और सेवा को खरीदता है। वह वस्तु कुछ भी हो सकती है जैसे, घर का सामान, खाध पदार्थ और गेहू, दाल, चावल, फल, सब्जी आदि तथा इनमे यातायात का साधन, बिजली, मोबाइल, कपड़ा, बैंक सेवा आदि भी आते है।

-: उदाहरण :-

उपभोक्ता बाजार से उसकी जरुरत का सामान खरीदता है जिसको वह उपयोग कर सके। वस्तुओं अथवा सेवाओं को खरीदने वाले व्यक्ति को ही उपभोक्ता कहते हैं।

उपभोक्ता की परिभाषा | Upbhokta ki Paribhasha?

उपभोक्ता को अंग्रेजी में कंज्यूमर(consumer) भी कहा जाता है जो अपनी आवश्यकता के अनुसार वस्तुए जैसे गेहू, चीनी, नमक, फल, टेलीविजन, रेफ्रिजरेटर, कार, बाइक आदि खरीदता है दुसरे सब्दो में हम कह सकते हे की वह व्यक्ति जो विक्रेता को मूल्य देकर उसकी जरुरत के अनुसार सामान खरीदता है

उपभोक्ता संतुलन क्या है | Upbhokta Santulan kya hai?

उपभोक्ता संतुलन वह स्थिति हैं जिसमें उपभोक्ता अधिकतम संतुष्टि की स्थिति मैं होता हैं ऐसी स्थिति जहां उपभोक्ता अपनी आय से एक या एक से अधिक वस्तुओं की खरीद पर खर्च करता है ताकि उसे अधिकतम संतुष्टि मिले और वस्तुओं की कीमतों को देखते हुए उपभोग के इस स्तर को बदलने का कोई आग्रह न हो, इसीको उपभोक्ता के संतुलन के रूप में जाना जाता है।

उपभोक्ता के अधिकार क्या है | Upbhokta ke Aadhikar kya hai?

उपभोक्ता को अपने अधिकार का ज्ञान होना बहुत आवश्यक है जो इस प्रकार है :-

  • 1. Right to choose ( चयन का अधिकार )

उपभोक्ताओ को कोई भी सामान खरीदने से पहले चुनने का अधिकार है उसे क्या लेना है कितनी मात्र में लेना है व्यापारी बुरी वस्तुओ कोभी अच्छा बता कर अत्यधिक दाम पर बेचते है।

  • 2. Right to Information ( सुचना के अधिकार )

इस अधिकार में आपको वस्तु खरीदने से पहले उस वस्तु से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी का होना अनिवार्य है जैसे मूल्य, गुणवता, स्तर, सुधता, मानक आदि. उपभोक्ता यदि कोई वस्तु खरीद रहा हे तो उससे सम्बंधित सम्पूर्ण जानकारी व्यापारि या विक्रेता को देनी होगी।

  • 3. Right to Settle Disputes ( विवाद सुलझाने का अधिकार )

इस अधिकार में उपभोक्ताओ को अपने विवादों का निवारण करने के लिए उपभोक्ता विवाद निवारण फोरम, राज्य उपभोक्ता निवारण आयोग और राष्ट्रिय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग में जाना होगा।

  • 4. Right to Security ( सुरक्षा का अधिकार ) 

यदि उपभोक्ता किसी भी प्रकार की दवाई , भोजन, या इलेक्ट्रॉनिक सामान खरीदता है तो उस व्यापारी को उससे सम्बंधित हानियों के बारे में उपभोक्ता को बताना होगा जैसे डॉक्टर, फ़ूड सप्लायर, डेरी प्रोडक्ट आदि इन्हें प्रोडक्ट की Expiry Date के बारे में बताना होगा।

  • 5. Redressal Rights ( निवारण अधिकार )

यदि विक्रेता कोई भी सस्ती वस्तु महंगे दाम पर बेचता है, या कोई ख़राब वस्तु उपभोक्ता को बेचता है तो वह उपभोक्ता उसे विक्रेता को Return कर सकता है।

  • 6. Right to Consumer Education ( उपभोक्ता शिक्षा का अधिकार )

उपभोक्ता शिक्षा के अधिकार के अंतर्गत वह अधिकार आता है जिसमे उपभोक्ता शिक्षा या knowledge के माध्यम से उसके अनुसार उत्पाद या कोई भी सामान खरीद सके और उन्हें इस बात की सम्पूर्ण जानकारी हो की उसे ठगा ना जा रहा हो।

  • 7. Right of Hearing ( सुनवाई का अधिकार )

उपभोक्ता को अपनी सिकायत पर अपनी राय रखने और अपने हक़ की बात कहने का पूरा अधिकार होना चाहिए. उपभोक्ता या कंज्यूमर्स का उद्देश्य ये सुनिश्चित करना है की उस Person की आवाज कॉर्पोरेट Persons तक सुनी जाये. उसके लिए वे Consumerdaddy.com वेबसाइट पर जाकर अपनी सिकायत दर्ज कर सकते है।

यह भी पढ़े :-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *