किसान ऋण मोचन योजना उत्तर प्रदेश 2022 : UP Kisan Rin Mochan Yojana kya hai in Hindi

किसान ऋण मोचन योजना उत्तर प्रदेश 2022 : UP Kisan Rin Mochan Yojana kya hai in Hindi

किसान ऋण मोचन योजना उत्तर प्रदेश 2022 : UP Kisan Rin Mochan Yojana kya hai in Hindi

किसान ऋण मोचन योजना उत्तर प्रदेश 2022 : UP Kisan Rin Mochan Yojana kya hai in Hindi – तो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में बात करेंगे किसान ऋण मोचन योजना के बारे में और जानने की कोशिश करेंगे कि ये किसान ऋण मोचन योजना आखिर में है क्या और इस किसान ऋण मोचन योजना का उद्देश्य क्या तथा इस किसान ऋण मोचन योजना का उत्तर प्रदेश में क्या-क्या लाभ है। तो दोस्तों अगर आप भी किसान ऋण मोचन योजना के बारे में जानने की इच्छा रखते है , तो फिर हमारे साथ बने रहे इस आर्टिकल के अंत तक ताकि आपके ज्ञान में और भी ज्यादा वृद्धि हो और आप इस बारे में कुछ नया सीख सकें और अपने इस ज्ञान का आप सही जगह इस्तेमाल कर सकें। तो चलिए दोस्तों अब हम बात करेंगे किसान ऋण मोचन योजना के बारे में और जानने की कोशिश करेंगे कि ये किसान ऋण मोचन योजना आखिर में है क्या और इस किसान ऋण मोचन योजना का उद्देश्य क्या तथा इस किसान ऋण मोचन योजना का उत्तर प्रदेश में क्या-क्या लाभ है :-

किसान ऋण मोचन योजना उत्तर प्रदेश 2022 : UP Kisan Rin Mochan Yojana kya hai in Hindi
किसान ऋण मोचन योजना उत्तर प्रदेश 2022 : UP Kisan Rin Mochan Yojana kya hai in Hindi

किसान ऋण मोचन योजना क्या है?

उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने जुलाई 2017 के में आधिकारिक तौर पर किसान ऋण मोचन योजना का उद्घाटन किया था। इस योजना के माध्यम से, लगभग 86 लाख किसानों को उनके द्वारा ली गई फसलों के लिए ऋण से मुक्त किया जाएगा। माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने उत्तर प्रदेश के सीएम बनने के बाद पहली इस योजना की शुरुआत की थी। इस किसान ऋण मोचन योजना के तहत जिन लोगो का नाम इस किसान ऋण मोचन योजना लिस्ट में आएगा उन किसानो के कर्ज को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा माफ़ किया जायेगा। क्यों कि छोटे और सीमांत किसानों को लिए गए ऋण को वापस चुकाने में असहाय होते है इसलिए इस योजना की शुरुआत की गई थी इसके अलावा केवल उन किसानों को आवेदन देने की अनुमति होगी जिनके पास आकार में 2 हेक्टेयर से कम खेत है या माप में खेत 5 एकड़ से अधिक नहीं होना चाहिए।

इस किसान ऋण मोचन योजना के तहत योगी सरकार गरीब किसानों का 1 लाख रुपए तक का कर्जा माफ़ करेगी। उत्तर प्रदेश के जो कोई भी गरीब किसान अपना कर्जा माफ़ करवाना चाहता है तो, ये उसके लिए एक सुनेहरा मौका है और आपको अपना कर्जा माफ़ कराने का इससे अच्छा मौका और कही नहीं मिलेगा।

Note :- किसान ऋण मोचन योजना को “फसल ऋण मोचन योजना” भी कहते है।

किसान ऋण मोचन योजना के लाभ

इस किसान ऋण मोचन योजना के निम्न फायदे ( लाभ ) है जिन्हे हमने एक लिस्ट के माध्यम से नीचे कि ओर दर्शाए है , तो दोस्तों आईये जानते है कि ये किसान ऋण मोचन योजना के आखिर कौन-कौन से फायदे ( लाभ ) है :-

  1. इस योजना का लाभ केवल उत्तर प्रदेश के गरीब किसानों के लिए है।
  2. किसान ऋण मोचन योजना के तहत उत्तर प्रदेश के छोटे और सीमांत किसानों का 1 लाख रुपए तक का कृषि कर्ज माफ़ किया जाएगा।
  3. इस किसान ऋण मोचन योजना के तहत उत्तर प्रदेश के लग-भग 86 लाख किसानो को इस योजना का लाभ दिया जाएगा।
  4. इस योजना से कृषि में वृद्धि को बढ़ावा दिया जाएगा ताकि आगमी फसल का उत्पादन बढ़े।
  5. अगर किसी व्यक्तियों को इस योजना के तहत कोई परेशानी है तो वह ऑनलाइन पोर्टल पर योजना से सम्बन्धी शिकायत दर्ज  करवा सकते है।

किसान ऋण मोचन योजना के तहत पात्रता मानदंड नियम

किसान ऋण मोचन योजना का लाभ लेने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा निम्न लिखित पात्रता मानदंड नियम दिए गए हैं :-

  1. आवेदक नागरिक किसानों को उत्तर प्रदेश में निवास करना होगा और साथ ही जिस किसान की जमीन से कर्ज लिया गया है वह उत्तर प्रदेश राज्य के भीतर स्थित होना चाहिए।
  2. कोई भी भूमि जो यूपी की सीमा के बाहर है, योजना के तहत पात्र नहीं है।
  3. 31 मार्च, 2016 से पहले कर्ज लेने वाले किसान ही योजना में भाग लेने के पात्र हैं। जिन किसानों ने निर्धारित तिथि के बाद अपनी फसल के लिए ऋण लिया है, वे पात्र नहीं हैं।
  4. ऋण की सीमा राशि ऋण की राशि रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। यदि आपने 1 लाख रुपये की राशि से अधिक उधार लिया है तो ऋण के रूप में 1 लाख को कार्यक्रम में पंजीकरण के लिए योग्य नहीं माना जा सकता है।
  5. भूमि के आकार में 2 हेक्टेयर से कम खेत है या माप में खेत 5 एकड़ से अधिक नहीं होना चाहिए।

किसान ऋण मोचन योजना की विशेषताएं

  1. अंतिम ऋण मोचन योजना यूपी के नवनियुक्त मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की जाने वाली पहली आधिकारिक योजना है। कार्यालय के लिए अपने चुनाव के बाद, योगी ने यह घोषणा अपने अभियान के दौरान किए गए वादों के अनुरूप की।
  2. योजना में एक ऑनलाइन पोर्टल शामिल होगा जहां किसान ऋण माफी सुविधा के लिए आवेदन कर सकते हैं। यदि किसान पात्रता आवश्यकताओं को पूरा करते हैं, तो वे ऑनलाइन योजना के लिए साइन अप करने में सक्षम हैं।
  3. योजना का क्रियान्वयन जिला विशेष होगा। हाल ही में सीएम और जिलाधिकारियों के साथ हुई बैठक में जिले की प्रत्येक तहसील के भीतर नियंत्रण केंद्र स्थापित करने का निर्णय लिया गया है। जिसमे नियंत्रण कक्ष योजना लागू की जाएगी।
  4. नियम के अनुसार 17 अगस्त से पहले प्रत्येक किसान को ऋण से छूट दी जाएगी। इस प्रक्रिया में कोई समस्या या बाधा नहीं होगी।

किसान ऋण मोचन योजना के लिए आवेदन कैसे दें?

तो दोस्तों अगर आप इस किसान ऋण मोचन योजना का ऑनलाइन आवेदन देना चाहते हो, तो इस के लिए आपको नीचे दी गई लिस्ट को फॉलो करना होगा :-

  1. योजना के पंजीकरण करने के लिए किसी को अपनी आधिकारिक वेबसाइट click here पर क्लिक करना होगा।
  2. फिर आप “लॉगिन” बटन पर क्लिक करने में सक्षम होंगे। यदि आपका किसान वेबसाइट पर पंजीकृत है, तो वे उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड का उपयोग करके लॉग इन कर सकते हैं।
  3. यदि संपत्ति का मालिक पहले से ही सदस्य नहीं है, तो उसे वेबसाइट के माध्यम से अपना विवरण दर्ज करना होगा।
  4. फिर इसके बाद आप साइन अप करने के बाद, वह वेबसाइट पर उपलब्ध पंजीकरण फॉर्म को पूरा करने में सक्षम है।
  5. इस फॉर्म में, उपयोगकर्ता को नाम के साथ-साथ उम्र, संपर्क नंबर आधार नंबर, बैंक खाते के साथ-साथ भूमि और ऋण के बारे में जानकारी प्रदान करने की आवश्यकता होती है।
  6. दिए गए सभी विवरणों की जांच करके फॉर्म को पूरा करें।
  7. सत्यापन प्रक्रिया और अन्य प्रक्रियाएं भविष्य में होंगी।
  8. याद रहें अगस्त के 17वें दिन, सभी प्राप्तकर्ताओं को चुना जाएगा और उस समय ऋण माफी दी जाएगी।

किसान ऋण मोचन योजना के आवेदन के लिए कुछ जरुरी दस्तावेज

इस किसान ऋण मोचन योजना के आवेदन के लिए कुछ जरुरी दस्तावेजो की जरुरत होती है। जिन्हे हमने एक लिस्ट के माध्यम से नीचे कि ओर दर्शाए है , तो दोस्तों आईये देखते है कि कौन-कौन से जरुरी दस्तावेजो की जरुरत होती है किसान ऋण मोचन योजना के आवेदन के लिए :-

इस वाला सबसे जो अनिवार्य है वो आधार कार्ड है और दूसरा किसानों की संपत्ति के दस्तावेज है जो कि किसानों के लिए दस्तावेजों को संदर्भित करता है। इसके अलावा, बैंक की खाता संख्या और साथ ही योजना के लिए जानकारी भी आवश्यक है।

फसल ऋण मोचन योजना में आधार कार्ड क्यों जरुरी हैं?

इस किसान ऋण मोचन योजना के तहत आधार कार्ड की बहुत ही ज्यादा आवश्यकता है क्योंकि यह किसानों के बैंक खाते से जुड़ा होगा। जिन लोगों के पास आधार कार्ड नहीं है, लेकिन उनका बैंक में खाता है, उन्हें अपना आधार प्राप्त करने के लिए विशेष अनुमति दी जाएगी। योजना के नियमों के अनुसार जिन लोगों के पास आधार नहीं है, उन्हें नामांकित करने के लिए जिला मजिस्ट्रेटों को तहसीलों के भीतर एक कार्यालय स्थापित करना आवश्यक है। यह सुविधा पूरी तरह से नि:शुल्क है और इसे सुगम बनाने के लिए कोई शुल्क या अन्य नकदी नहीं ली जाएगी। 15 जुलाई, शनिवार को आधार पंजीकरण की प्रक्रिया हुई थी।

यह भी पढ़े:

Leave a Comment

Your email address will not be published.