स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना | Swarn Jayanti Gram Swarojgar Yojana in Hindi

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना | Swarn Jayanti Gram Swarojgar Yojana in Hindi

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना | Swarn Jayanti Gram Swarojgar Yojana in Hindi

तो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में बात करेंगे स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के बारे में और जानने की कोशिश करेंगे कि ये स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना आखिर में है क्या और इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के लाभ क्या है तथा इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के उद्देश्य क्या है , तो दोस्तों अगर आप भी इस योजना के बारे में जानने की इच्छा रखते हो , तो बने रहिए हमारे साथ इस आर्टिकल के अंत तक ताकि आपके ज्ञान में और भी ज्यादा वृद्धि हो और आप कुछ नया सीख सकें , तो चलिए दोस्तों अब हम इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के बारे में जानने की कोशिश करते है कि ये स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना आखहिर में है क्या और इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के लाभ और उद्देश्य क्या-क्या है :-

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना क्या है ?

तो दोस्तों स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना को केन्द्र सरकार द्वारा प्रारम्भ किया गया है। असल में देखा जाए तो इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना की शुरूआत 1 अप्रैल 1999 में हुई थी। इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत केन्द्र सरकार ग्रामीण और शहरी गरीबों को टिकाऊ आय प्रदान कर रही है। इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के अंतर्गत 66.97 लाख लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए 22 लाख स्व-सहायता समूहों की स्थापना हुई है।

इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना में इससे पहले की छ: और योजनाए इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना में मिला दी गई है , अब से अगर कोई भी इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना का लाभ लेगा उसके साथ उसको इन पहले की छ: और योजनाओ का भी लाभ मिलेगा। ये है वो पहले की छ: और योजनाए क्रमश; एकीकृत ग्रामीण विकास कार्यक्रम (IRDP), स्व रोजगार के लिए ग्रामीण युवाओं का प्रशिक्षण (TRYSEM), ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं और बच्चों के विकास (DWCRA), ग्रामीण कारीगरों को बेहतर टूलकिट (SITRA), गंगा कल्याण योजना (GKY) और अन्य आपूर्ति कल्याणकारी योजनाएं है और अब हम आपको ये बताते चलें कि इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना का नाम बदल कर के आजीविका मिशन रख दिया गया है।

इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले नागरिकों (BPL Families) को अनुदान तथा लोन मुहैया कराकर गरीबी रेखा से ऊपर लाना है। इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के अंतर्गत 3 लाख 75 हज़ार स्व-रोजगारियों को 1 हज़ार 370 करोड़ 68 लाख रूपये का अनुदान तथा लोन दिया गया है। इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत ग्रामीण इलाकों में निरंतर आय सृजन के अवसर उत्पन्न करने के लिए गरीब नागरिकों की क्षमता को बढ़ाया गया है। इसके अलावा , प्रत्येक इलाकें की जमीन पर आधारित या अन्य संभावनाओं के आधार पर भारी मात्रा में छोटे उद्यमों की स्थापना पर ज्यादा ध्यान दिया गया है।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के लाभ

इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के निम्न लाभ है जिन्हे हमने एक लिस्ट के माध्यम से नीचे कि ओर दर्शाए है , तो दोस्तों आईये जानते है कि ये स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के आखिर कौन-कौन से लाभ है :-

  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत ग्रामीण गरीब एकजुट होंगे ताकि वे स्वयं को सहायता समूहों में संगठित कर सकें।
  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना की मदद से प्राप्त ग्रामीण परिवारों को बैंक ऋण और सरकारी अनुदान की सहायता से संपत्ति प्रदान करके गरीबी रेखा से ऊपर उठाने की कोशिश की जाएगी।
  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत 75% तक खर्चा भारत सरकार द्वारा ही प्रदान किया जाएगा तथा बाकि का 25% खर्च राज्य सरकार द्वारा दिया जाएगा।
  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत लाभार्थियों को ऋण और ऋण पर सब्सिडी दी जाएगी।
  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में परिवारों को अपने दम पर काम करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा ताकि उनकी आय में वृद्धि हो सके।
  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना का नेतृत्व भारत सरकार करती है इस लिए किसी भी लाभार्थी को घबराने की कोई जरुरत नहीं है।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना की कुछ सामान्य जानकारी

Scheme name ( योजना का नाम )स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना
Who started ( किसने आरंभ की )केन्द्र सरकार के द्वारा
Beneficiary ( लाभार्थी )भारत के नागरिक
Purpose ( उद्देश्य )गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले नागरिकों को बीपीएल कार्ड धारकों को अनुदान तथा लोन उपलब्ध करना है।
Official website ( आधिकारिक वेबसाइट )http://www.sgsy.gov.in/
Year ( साल )2022
Application Type ( आवेदन का प्रकार )ऑनलाइन
State ( राज्य )पुरे भारत देश में ये स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना लागू है।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के उद्देश्य

इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के निम्न उद्देश्य है , जिन्हे हमने एक लिस्ट के माध्यम से नीचे कि ओर दर्शाए है , तो दोस्तों आईये जानते है कि ये स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के आखिर कौन-कौन से उद्देश्य है :-

  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत पूरे देश में ग्रामीण इलाकों में बड़ी संख्या में सूक्ष्म उद्यम स्थापित करके गरीबी को कम करना है।
  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के अंतर्गत सूक्ष्म उद्यमों का एक समग्र कार्यक्रम जिसमें स्व-रोजगार के हर पहलू को शामिल किया गया है जिसमें ग्रामीण गरीबों के संगठन को स्वयं सहायता समूहों में शामिल किया जाएगा।
  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत जिला ग्रामीण विकास एजेंसियों, बैंकों, रेखा विभागों, पंचायती राज संस्थानों, एनजीओ (NGO) इत्यादि जैसी कई एजेंसियों का एकीकरण करना है।
  • इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना की मदद से समूह ऋण की पूंजीकरण भी अब आसान होगी।

यह भी पढ़े:

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना का नया नाम क्या है ?

इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना का नया नाम आजीविका मिशन है।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना का उद्देश्य क्या है ?

इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना का मुख्य उद्देश्य केवल गरीबो को आत्मनिर्भर बनाना है।

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना की शुरुआत कब और क्यों की गई थी ?

स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना को केन्द्र सरकार द्वारा प्रारम्भ किया गया है। असल में देखा जाए तो इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना की शुरूआत 1 अप्रैल 1999 में हुई थी। इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत केन्द्र सरकार ग्रामीण और शहरी गरीबों को टिकाऊ आय प्रदान कर रही है। इस स्वर्ण जयंती ग्राम स्वरोजगार योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले नागरिकों (BPL Families) को अनुदान तथा लोन मुहैया कराकर गरीबी रेखा से ऊपर लाना है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *