Speech on Hindi Diwas in Hindi for Class 4 2022 PDF - Short

Speech on Hindi Diwas in Hindi for Class 4 2022 PDF – Short

Speech on Hindi Diwas in Hindi for Class 4 2022 PDF – Short

Speech on Hindi Diwas in Hindi for Class 4 2022 PDF – Short – तो दोस्तों इस आर्टिकल में हम हिंदी दिवस के बारे में जानने वाले है की हिंदी दिवस क्या है, इस पर स्कूल के छात्र किस तरह अपना भाषण और निबंध तैयार कर सकते है, इस आर्टिकल में हम आपको हिंदी दिवस का भाषण किस प्रकार देना है बताने वाले है तो आर्टिकल पूरा ध्यान से पड़े ताकि आप अपना भाषण और निबंध इस आर्टिकल के माध्यम से तैयार कर पाए। तो आइये जानते है,

हिंदी दिवस भाषण 

भारत दुनिया में सबसे अधिक विविध संस्कृतियों वाला देश है। धर्म, परंपराओं एवं भाषा में इसकी विविधता के बावजूद यहां के लोग एकता में विश्वास रखते हैं। हिंदी हमारे भारत की सबसे प्रमुख भाषा है। दुनियाभर में हिंदी भाषा चौथी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है। भारत में विभिन्न भाषाएं बोली जाती हैं, पर सबसे अधिक हिंदी भाषा बोली, लिखी एवं पढ़ी जाती है। वर्ष 1949 में हिंदी भाषा को हमारे देश में सर्वोच्च दर्जा प्राप्त हुआ एवं तब से हिंदी भाषा को हमारी राष्ट्रभाषा माना जाता है।

हिंदी दिवस हमें ये याद दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है कि हिंदी दुनिया की सबसे प्राचीन भाषाओं में से एक है और प्रत्येक भारतीय को अपनी मातृभाषा में बोलने पर गर्व महसूस करना चाहिए। गृह मंत्रालय भारत सरकार के जरिए हिंदी दिवस के अवसर पर 14-15 सितंबर 2022 को दूसरा अखिल भारतीय राजभाषा सम्मलेन गुजरात राज्य के सूरत में आयोजित किया जा रहा है। पहला अखिल भारतीय राजभाषा सम्मेलन 13-14 नवंबर, 2021 को उत्तरप्रदेश के वाराणसी में आयोजित किया गया था। वर्ष 2022 में 14 सितंबर से 29 सितंबर तक हिंदी पखवाड़े का आयोजन देशभर में करा जा रहा है। इस संदर्भ में कई प्रकार के आयोजन किए जाते हैं, जिनमें अच्छा प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों को पुरस्कृत तथा सम्मानित भी किया जाता है। हिंदी दिवस 2022 के इन कार्यक्रमों में हिंदी निबंध प्रतियोगिता, अनुवाद प्रतियोगिता, हिंदी ज्ञान प्रतियोगिता, हिंदी टिप्पण और आलेखन प्रतियोगिता, हिंदी दिवस भाषण प्रतियोगिता आदि सम्मिलित हैं।

हिंदी दिवस पर भाषण l Hindi Diwas Speech

भाषण की शुरुआत ऐसे करें… मुख्य अतिथि, प्रिंसिपल, शिक्षकों और मेरे प्यारे दोस्तों को सुप्रभात. मैं आप सभी को हिंदी दिवस की शुभकामनाएं देता हूं. आज, मुझे हिंदी दिवस पर कुछ बोलने का मौका मिला है. इसमें मैं अपने आपको सम्मानित महसूस कर रहा हूं. हम लोग हिन्दी दिवस के खास मौके पर हिन्दी भाषा के सम्मान को बढ़ाने के लिए आज यहां एकत्रित हुए है.

हिंदी दिवस पर भाषण l Hindi Diwas Speech

मेरे माननीय प्रधानाचार्य, मेरे आदरणीय शिक्षकों और मेरे प्यारे दोस्तों को सुप्रभात।

मैं (आपका नाम) हूं और आज मुझे हिंदी दिवस पर भाषण (Hindi Diwas Speech) देने का अवसर प्राप्त हुआ है।

साथियों जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज हम सब हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में यहां उपस्थित हुए हैं। हममें से ज्यादातर लोग यह भी जानते होंगे कि राष्ट्रीय हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। भारत अनेकता में एकता वाला देश है। अपने विविध धर्म, संस्कृति, भाषाओं एवं परंपराओं के साथ, भारत के लोग सद्भाव, एकता तथा सौहार्द के साथ रहते हैं। भारत में बोली जाने वाली विभिन्न भाषाओं में, हिंदी सबसे ज्यादा उपयोग की जाने वाली एवं बोली जाने वाली भाषा है।

ऊपर दिए गए संबोधन में अवसर एवं आयोजन के अनुरूप उपयुक्त बदलाव अवश्य कर लें।

वर्ष 2001 में रिकॉर्ड के अनुसार, लगभग छब्बीस करोड़ नागरिक हिंदी भाषा में बात करते हैं। हिंदी को 14 सितंबर 1949 को भारत की राष्ट्रीय भाषा के रूप में अपनाया गया तब से हिंदी को एक उच्च दर्जा प्राप्त हुआ तथा इसी उपलक्ष्य में हम हर वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाते हैं।

हिंदी एक इंडो-आर्यन भाषा है, जिसे देवनगरी लिपि में भारत की आधिकारिक भाषाओं में से एक के रूप में लिखा गया है। राजेंद्र सिंह, हजारी प्रसाद द्विवेदी, काका कालेलकर, मैथिलीशरण गुप्त और सेठ गोविंद दास गोविंद जैसे लोगों ने हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा बनाए जाने के पक्ष में कड़ी पैरवी करी थी। भारतीय संविधान के आधार पर, अनुच्छेद 343 के अनुसार, हिंदी को आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया गया था। हमारी मातृभाषा हिंदी एवं देश के प्रति सम्मान दिखाने के लिए ही हिंदी दिवस का आयोजन करा जाता है।

हिंदी दिवस पूरे भारत में बहुत उत्साह एवं गर्व के साथ मनाया जाता है। शिक्षण संस्थानों से लेकर सरकारी दफ्तरों तक सभी हमारी राष्ट्रभाषा को सम्मान देते हैं।

इतिहासकारों का मानना है कि हिन्दी विद्वानों के जरिये अपनी महान साहित्यिक कृतियों में उपयोग की जाने वाली प्रमुख भाषा रही है। रामचरितमानस एक साहित्यिक कृति है जो हिंदी में भगवान राम की कहानी का वर्णन करती है तथा गोस्वामी तुलसीदास की सबसे महत्वपूर्ण कृतियों में से एक है, जिसे 16 वीं शताब्दी में लिखा गया था। हिंदी सबसे आदिम भाषाओं में से एक है जो मूल रूप से संस्कृत भाषा से संबंधित है। अतीत से, हिंदी एक भाषा के रूप में विकसित होकर हमारी राष्ट्रभाषा बन गई है।

वर्ष 1917 में, महात्मा गांधी ने भरूच में गुजरात शिक्षा सम्मेलन में प्रस्तुत एक भाषण में हिंदी के महत्व पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने जोर देकर कहा कि हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा के रूप में उपयोग किया जाना चाहिए एवं अर्थव्यवस्था, धर्म औरराजनीति के लिए संचार के रूप में भी उपयोग किया जाना चाहिए।

हमारे समाज में बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें पता नहीं होता है कि हिंदी दिवस कैसे मनाया जाता है? मैं आपको बता दूं की देश के सर्वप्रथम प्रधानमंत्री, जवाहरलाल नेहरू ने पहली बार 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का फैसला किया था। हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में भारत के विभिन्न स्कूलों एवं कॉलेजों में हिंदी साहित्यिक तथा सांस्कृतिक कार्यक्रमों, प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता हैं जिसमें छात्र बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हैं। जहां छात्र हिंदी में विभिन्न कविताओं का पाठ करते हैं और हिंदी निबंध पढ़कर हिंदी भाषा को गर्वान्वित करते हैं। हिंदी दिवस के इस अवसर पर प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं एवं हिंदी में कहानियां पढ़ी जाती हैं। हमारे लिए यह बहुत सम्मान की बात है कि हमारी राष्ट्रभाषा हिंदी राष्ट्रीय तथा अंतर्राष्ट्रीय दोनों प्लेटफार्मों में लोकप्रियता हासिल कर रही है।

आज के आधुनिक वक़्त में लोग पश्चिमी सभ्यता से काफी प्रभावित हुए हैं। हिन्दी भाषा का महत्व धीरे-धीरे समाप्त होता जा रहा है। हिंदी दिवस लोगों को उनकी जड़ों से जोड़े रखता है एवं लोगों को उनकी मूल संस्कृति की याद दिलाता है। ऐसे कई भारतीय हैं जो आज भी भारतीय संस्कृति को बनाए रखने में गर्व महसूस करते हैं।

यह भी पड़े :\

Leave a Comment

Your email address will not be published.