समूह कार्य क्या है, उद्देश्य, लाभ विशेषताएं | Samuh Karya kya hai

समूह कार्य क्या है, उद्देश्य, लाभ विशेषताएं | Samuh Karya kya hai

समूह कार्य क्या है, उद्देश्य, लाभ विशेषताएं | Samuh Karya kya hai

समूह कार्य क्या है, उद्देश्य, लाभ विशेषताएं | Samuh Karya kya hai – तो दोस्तों आज हम इस आर्टिकल में बात करेंगे समूह कार्य के बारे में और जानने की कोशिश करेंगे कि ये समूह कार्य आखिर में होता क्या है और इस समूह कार्य के क्या उद्देश्य है तथा इस समूह कार्य के क्या लाभ है। तो दोस्तों चुकी आप सभी इस समूह कार्य के बारे में जानने के बहुत इच्छुक है इसलिए आप सभी बने रहे हमारे साथ इस आर्टिकल के अंत तक :-

समूह कार्य क्या है | Samuh Karya kya hai?

समूह कार्य नेतृत्व की एक प्रणाली है जिसका प्रयोग संगठन संरचना के लिए किया जाता है तथा समूह कार्यकलापों के विभिन्न प्रकार का संचालन करने में किया जाता है।

  • 1. गिसले कोनोप्का ( Gisley konopka )

गिसले कोनोप्का समूह कार्य को समाज कार्य की एक प्रणाली के रूप में परिभाषित करते हैं जो उद्देश्य पूर्ण समूह अनुभव के माध्यम से व्यक्ति के समाज कार्यों को विस्तार देती है और व्यक्ति समूह तथा समुदाय की समस्याओं को और अधिक प्रभावी ढंग से हल करने का प्रयास करती है।

  • 2. ट्रैकर ( Tracker )

ट्रैकर इस संबंध में निम्नलिखित परिभाषा प्रस्तुत करते हैं समाज कार्य में सामाजिक समूह कार्य एक कार्य प्रणाली है, जिसमें विभिन्न समुदाय एजेंसियों से उपस्थित अनेक समूहों के माध्यम से व्यक्ति की सहायता की जाती है। उसमें मौजूद कार्यकर्ता कार्यक्रम की गतिविधियों में अंत क्रिया करते हुए मार्गदर्शन देता है ताकि वह हमसे जुड़ जाए और उनके अनुसार विकास के अवसरों पर का अनुभव प्राप्त करें उनकी आवश्यकताओं की पूर्ति करने और अपनी क्षमता के अनुसार व्यक्तिगत समूह और समुदाय का विकास करने में सहयोग और भागीदारी करें।

समूह कार्य के उद्देश्य | Samuh Karya ke Uddesy

समूह कार्य एक ऐसा उद्देश्य मार्ग है जिसमें समाज को योगदान दिया जाता है और फिर उनसे वैद्य प्राप्त की जाती है वैधता लोग और एजेंशिया मूल्यांकन के द्वारा प्रणाली के रूप में समूह को स्वीकार करते हैं कि समूह कार्य किस स्तर का है और उसने अपना लक्ष्य और उद्देश्य क्या रखा है और क्या उसे प्राप्त है।

अलान ब्राउन ( Allen brown ) के अनुसार समूह कार्य के निम्नलिखित उद्देश्य है।

  • 1. व्यक्तिगत मूल्यांकन ( Personal Assessment )

व्यक्तिगत व्यवहार का मूल्यांकन करने के लिए समूह का प्रयोग किया जाता है इस मूल्यांकन का मूल आधार कार्यकर्ताओं के मूल्यांकन सदस्यों के मूल्यांकन तथा समूह सदस्यों का मूल्यांकन द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों पर आधारित होता है समूह मूल्यांकन का प्रयोग बाल अपराध केंद्रों आवासीय देखभाल केंद्रों तथा वृद्धि पाल केंद्रों के आंकड़े से प्राप्त करने के लिए किया जाता है क्या सकता है

  • 2. व्यक्तिगत सहायता और संरक्षण ( Personal Support and Protection )

समूह उन सदस्यों को मनोसामाजिक सहायता उपलब्ध कराते हैं जो तनावपूर्ण स्थितियों से गुजर रहे हैं समूह द्वारा अशक्तता मनो भ्रम रोगियों की देखभाल करने वालों को और उन विद्यालयों को जीने शिक्षा ग्रहण करने में कठिनाई आ रही है उनकी सहायता की जा सकती है।

  • 3. व्यक्तिगत परिर्वतन ( Personal change )
  1. व्यक्ति के विचलन या पथ-भ्रष्ट होने पर नियंत्रण करना। जैसे कि उदाहरण के लिए बच्चों के साथ दुर्व्यवहार करने वालों को व्यवहार में प्रशिक्षण द्वारा नियंत्रण मे लाया जा सकता है।
  2. समुदाय मैं रहने के लिए सामाजिक कौशलों को सीखने के लिए व्यक्ति का सामाजिकरण करना।
  3. अंत: वेय संबंधों में सुधार
  4. आर्थिक क्षेत्र में सुधार उदाहरण के लिए स्व सहायता समूह
  5. अच्छी स्व–संकल्पना और भावना भावनाओं को विकसित करना उदाहरण के लिए सामान्य समस्याओं पर चर्चा करने के लिए आस-पड़ोस की महिलाओं के साथ चर्चा करना
  6. समूह और टी समूह की प्रतिक्रिया या प्रतिरोध में व्यक्ति की समृद्धि और विकास करना।

समूह कार्य के लाभ | Samuh Karya ke Labh

  1. समूह वह प्राकृतिक स्थान है जहां लोग रहते हो विकास करते हैं परिवार समान समूह कार्य स्थलों के समूह और पड़ोसी समूह एक व्यक्ति के सामाजिक जीवन के केंद्र होते हैं यदि इन समूहों का हमारे व्यक्तित्व पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं तो समूह सदस्यों के व्यवहार को परिवर्तन करने में इनका प्रयोग क्यों नहीं कर सकते समूह कार्य का उद्देश्य विस्थापन में इन उद्देश्यों को प्राप्त करना है।
  2. समूह सदस्य जिनके हितलाभ और समस्याएं समान रूप से एक जैसी हो एक दूसरे के अनुभव और अपनी समस्याओं से सब भागीदारी हो जाते हैं तथा एक दूसरे की सहायता करके समस्याओं का समाधान करते हैं और जीवन सहज बनाने में योगदान करते हैं आपसे सहायता तथा सहायता के सिद्धांत पर जोर दिया जाता है समूह कार्य का मुख्य लाभ कार्य पर होता है इसमें प्रत्येक सदस्य एक सहायक का रूप धारण कर लेता है और समूहों में सहायता करता है अतः सहायता करना और सहायता लेना दोनों ही समानता की भावनाओं से परिपूर्ण हैं।
  3. समूह सदस्य अपने सदस्यों में चेतना तथा जागरूकता पैदा करते हैं यह लोगों की व्यक्तिगत समस्याओं को सार्वजनिक बना देते हैं और जब सार्वजनिक बन जाती है समस्या समाधान के लिए बहुत सारे लोग जुड़ जाते हैं तथा समस्याएं हल हो जाती है इसके पश्चात समस्या समाधान के लिए चर्चा परिचय की परिचर्चा की जाती है तथा कार्य योजना बनाकर उनको लागू किया जाता है।
  4. समूह सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए संबंध में एजेंसी के अंदर सदस्यों के महत्वपूर्ण विचारों का प्रयोग किया जाता है।
  5. समूह कार्य लोकतांत्रिक सिद्धांतों को अपने अभ्यास से प्रदर्शित करने में सक्षम होता है।
  6. समूह कार्य लोग के कुछ समूहों के लिए बहुत ही प्रभाव कारी होता है जैसे कि किशोर बच्चे और महिलाएं यह समूह अपने–अपने समूह में सहायता प्राप्त करके बहुत ही सहज महसूस करते हैं और अपनी जुड़े रहने की वह सुरक्षित महसूस करने की आवश्यकताओं की पूर्ति करते हैं।
  7. समूह कार्य आर्थिक रूप से सहज तथा समय बचाने वाली प्रणाली देती है क्योंकि इसमें एक ही समय में एक से अधिक सेवको के साथ कार्य किया जाता है।

यह भी पढ़े :-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *