Prevention Of Money Laundering Act 2002 In Hindi Pdf Download India

Prevention Of Money Laundering Act 2002 In Hindi Pdf Download India

Prevention Of Money Laundering Act 2002 In Hindi Pdf Download India

इस लेख में, Prevention Of Money Laundering Act 2002 In Hindi Pdf Download India पर चर्चा करेंगे, जो मनी लॉन्ड्रिंग को रोकने के लिए बनाया गया एक कानून है और यह संपत्ति को जब्त करना संभव बनाता है जो मनी लॉन्ड्रिंग से या उसके एक हिस्से से प्राप्त होता है, और संबंधित मामलों से निपटने के लिए। और हम आपको आखिर में स्की pdf बह देंगे।

Prevention Of Money Laundering Act 2002 In Hindi Pdf Download India
Prevention Of Money Laundering Act 2002 In Hindi Pdf Download India

द पॉलिटिकल डिक्लेरेशन एंड ग्लोबल प्रोग्रानियम ऑफ एक्शन द पॉलिटिकल डिक्लेरेशन एंड ग्लोबल प्रोग्रानियम ऑफ एक्शन, रिजॉल्यूशन टू एस-17/2 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में 23 फरवरी, 1990 को अपने 17वें सत्र में अनुमोदित किया गया। जबकि, यह 8 और 10 जून के बीच आयोजित संयुक्त राष्ट्र महासभा के विशेष सत्र द्वारा अपनाई गई राजनीतिक घोषणा है जिमे 1998 सदस्य राज्यों को मनी लॉन्ड्रिंग और एक कार्यक्रम पर राष्ट्रीय कानून अपनाने का आहान करता है।

उक्त संकल्प और घोषणा के कार्यान्वयन के लिए यह आवश्यक है।यह अधिनियम भारतीय गणराज्य के तैंतालीसवें वर्ष के दौरान संसद द्वारा इस प्रकार पारित किया गया था:

मनी लॉन्ड्रिंग क्या है | Money Laundering kya hai

मनी लॉन्ड्रिंग अवैध तरीके से या गैरकानूनी तरीके से कमाए हुए पैसे को कहते हैं वह इन पैसों को सरकार से छुपा के रखा जाता है कई बार लोग अपना टैक्स बचाने के लिए भी money-laundering का सहारा देते हैं, क्योंकि money-laundering के सहारे से अपने असली पैसे को छुपाया जा सकता है ।

और मनी लॉन्ड्रिंग अधिकतर बड़े लोग करते हैं जो पैसे वह ज्यादा कमाते हैं लेकिन सरकार से टैक्स को चोरी करने या फिर अपना टैक्स कम भरने की वजह से वह उस पैसे को अपनी संपत्ति में नहीं बनाते हैं उसे ही मनी लॉन्ड्रिंग कहते हैं और इन से निपटने के लिए बड़े-बड़े देशों ने एफटीएफ संगठन का निर्माण भी किया है जो दुनिया भर के देशों के ऊपर मनी लांड्रिंग को लेकर नजर रखता है ।

मनी लॉन्ड्रिंग को भारत के अंदर हवाला लेनदेन भी कहा जाता है मनी लॉन्ड्रिंग के अंदर पैसे को इस तरह से छुपाया जाता है या फिर इन्वेस्ट करा जाता है जिससे उसके असली मालिक का पता नहीं चलता है । मनी लॉन्ड्रिंग का मुख्य उद्देश्य अपने असली पैसे को छुपाकर उससे टैक्स ना भरना है और मनी लॉन्ड्रिंग का मुख्य उद्देश्य सरकार या जांच एजेंसियों से पैसा छुपाना होता है । एमपी मनी लॉन्ड्रिंग के अंदर ब्लैक मनी को वाइट कर के वापस उसके असली मालिक तक पहुंचा दिया जाता है।

मनी लॉन्ड्रिंग के कई रास्ते हैं जिसके अंदर निवेश करके या फिर हवाला से कोई भी व्यक्ति अपना ब्लैक मनी को वाइट कर लेता हैं । और इस तरह पैसा अपने असल धारक के पास आ जाता है । इस प्रोसेस को निम्नलिखित तीन प्रोसेस के द्वारा समझा जा सकता है ।

प्लेसमेंट

इस प्रक्रिया में लौंडा अपना काले धन का निवेश बाजार में कल काहे लॉन्ड्री एक औपचारिक समझौता करके विभिन्न एजेंटों और मैथ बैंकों के माध्यम से अपने आवेदन की नगदी को जमा कर आता है जिससे उसका काला धन सफेद हो जाता है ।

लेयरिंग

इस प्रक्रिया में धोखेबाज व्यक्ति अपनी वास्तविक आय को छुपा लेता है और अलग अलग निवेश साधनों के माध्यम से अपने पैसे को बैंकों में जमा करा देता है वहां उन बैंकों में जमा कराता है जो बैंक अपने खाताधारकों का डाटा किसी के साथ शेयर नहीं करती हैं जैसे स्विजरलैंड की बैंक मॉरीशस की जो बैंक होती है उनके अंदर ही यहां अपना काला धन छुपा देता है ।

इंटीग्रेशन

इंटीग्रेशन के माध्यम से लॉन्ड्रर अपने काले धन को अर्थव्यवस्था में शामिल कर देता है कि इस प्रकार वहां सरकार और दूसरी एजेंसियों से बच जाता है |

यह भी पढ़े:

Leave a Comment

Your email address will not be published.