पोषण क्या हैं परिभाषा | Poshan Kya Hai Paribhasha In Hindi Mein

पोषण क्या हैं परिभाषा | Poshan Kya Hai Paribhasha In Hindi Mein

पोषण क्या हैं परिभाषा | Poshan Kya Hai Paribhasha In Hindi Mein

दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे पोषण क्या हैं परिभाषा | Poshan Kya Hai Paribhasha In Hindi Mein , पोषण एक ऐसी विधि हैं जिसमे जीवो द्वारा शरीर में भोजन का सेवन किया जाता हैं और भोजन से पोषण तत्वों का उपयोग किया जाता हैं ।

पोषण क्या हैं परिभाषा | Poshan Kya Hai Paribhasha In Hindi Mein
पोषण क्या हैं परिभाषा | Poshan Kya Hai Paribhasha In Hindi Mein

पोषण क्या हैं परिभाषा | Poshan Kya Hai Paribhasha

जिस भोजन को हम खाते हैं उस भोजन को बचा कर हमारे शरीर को ऊर्जा मिलती है जिससे हमारे शरीर स्वस्थ और हल रहता है उसे पोषण (Neutrition) कहते हैं , मैक्रोन्यूट्रिएंट्स Macronutrients वे पोषक तत्व होते हैं जिनके लोगों को अपेक्षाकृत बड़ी मात्रा में आवश्यकता होती है प्रोटी,न कार्बोहाइड्रेट, वसा (Fat), विटामिन, फाइबर और पानी सभी पोषक तत्व है ।

ओपन की आवश्यकता हमें कई कई कारणों के लिए पर सकती है उन कारणों में जैसे शरीर का विकास, दिमाग तेज करना, शरीर को तंदुरुस्त रखना ऊर्जा प्राप्त करना रोगों से लड़ना आदि । अगर कोई सही मात्रा में न्यूट्रीशन नहीं लेता है तो उससे उसके शरीर को पनपने में बड़ी मुश्किल आती है जिसे किसी का दिमाग कमजोर रह जाता है या फिर किसी का शरीर कमजोर रहता है, हर प्रकार से पोषक तत्वों को अपने भोजन के माध्यम से प्राप्त करना ही पोषण कहलाता है पोषण को संतुलित आहार (Balanced Diet) भी बोला जाता है ,

शहर हम बात करें पोषक तत्वों की तो कार्बोहाइड्रेट मुख्य प्रकार के पोषक तत्वों में से एक है आप का पाचन तंत्र कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोस (Blood Sugar) में बदल देता है , हमरा शरीर इस शुगर का उपयोग ना हमारी कोशिकाओं उत्तक और अंगों के लिए ऊर्जा के लिए करता है यह आपके लिए और मांसपेशियों में जरूरत पड़ने पर किसी भी अतिरिक्त शुगर को स्टोर करता है । कार्बोहाइड्रेट दो प्रकार का होता है सरल और जटिल जिसे सिंपल और कंपलक्स भी कहा जाता है । सिंपल कार्बोहाइड्रेट में प्राकृतिक और अतिरिक्त शुगर शामिल है। और अगर हम बात करें कॉन्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट की तो इसके अंदर अनाज की ब्रेड और अनाज स्टार्ट वाली सब्जियां शामिल है ।

पोषण कितने प्रकार के होते हैं?

अब हम आपको बताएंगे कि पोषण (Neutrition) कितने प्रकार के होते हैं , पोषण को मुख्य रूप से दो प्रकार में बांटा गया है एक तो Autotrophic Neutrition और एक Hetrotophic Neutrition (स्वपोषी पोषण या स्वपोषण) और परपोषी पोषण या विषमपोशी पोषण

स्वपोषी पोषण या स्वपोषण (Autotrophic Neutrition) क्या होता हैं ?

Autotrophic शब्द दो शब्दों के संयोजन से बना है Auto का अर्थ स्वयं और Trophic का अर्थ पोषण है , स्वपोषी पोषण ऐसी प्रक्रिया है जिसमें जीव सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में पानी खनिज लवण(mineral) और कार्बन डाइऑक्साइड जैसे साधारण अकर्बनिक पदार्थों से अपना भोजन स्वयं तैयार करते हैं । आसान भाषा में कहें तो वह जीव जो अपना खाना खुद बनाते हैं वह स्वपोषी कहलाते हैं और इनकी यही क्रिया स्वपोषी पोषण कहलाती है ।

जैसे हरे पेड़ पौधे सुपोषण क्रिया करते हुए अपना भोजन स्वयं ही बनाते हैं पेड़ पौधों द्वारा अपना भोजन स्वयं बनाने की क्रिया को प्रकाश संशलेषन (Photosynthesis) कहा जाता है , लाइट की मौजूदगी में पानी और कार्बन डाइऑक्साइड से भोजन बनाते हैं और भोजन के अंदर कार्बोहाइड्रेट का निर्माण भी करते हैं इस पूरी प्रक्रिया के दौरान ऑक्सीजन मुक्त होती रहती है

परपोषी पोषण या विषमपोशी पोषण (Hetrotophic Neutrition )

वो जीव जो अपना खाना नही बना सकते उन्हे परपोषी या विषमपोशी (Hetrotophic ) कहा जाता हैं , Hetrotophic एक तरीका हैं जिसमें जीव जीवित रहने के लिए भोजन के लिए अन्य जीवों पर निर्भर होते हैं वह हरे पौधों की तरह अपना भोजन स्वयं नहीं बना सकते हैं विषमपोषी जीवो को जीवित रहने के लिए आवश्यक सभी कार्बनिक पदार्थों को ग्रहण करना होता है ।

पोषक तत्व क्या होते हैं ?

अभी तक आपने जाना है कि न्यूट्रीशन किसे कहते हैं अब हम आपको बताएंगे कि पोषक तत्व क्या होते हैं , पोषक तत्व उन्हें कहते हैं जिनसे हमारा शरीर ऊर्जा लेता हैं और जिनसे हमारे शरीर को शक्ति मिलती हैं उन्हे पोषक तत्व (Neutrition) कहा जाता हैं , जब हम किसी भी तरह का भोजन ग्रहण करते हैं तो हमें उससे ऊर्जा मिलती है तो उस ऊर्जा को ही न्यूट्रिशन कहा जाता है ।

आसान भाषा में समझे तो वो सारे रसायनिक प्रदार्थ जो हमारे शरीर के लिए विकास के लिए महत्वपूर्ण होते हैं उन्हें न्यूट्रिशन या पोषक तत्व कहते हैं जैसे कार्बोहाइड्रेट प्रोटीन फैट खनिज लवण (मिनरल) विटामिन आदि सभी भोजन का भाग है , संतुलित भोजन में यहां पोषक तत्व रासायनिक पदार्थों के रूप में होते हैं जो लगभग 50 के आसपास होते हैं इन्हें ही पोषक (Nutrients) तत्व कहा जाता है।

इन्हीं पोषक तत्वों से हमारे शरीर को एनर्जी मिलती है , और शरीर के अंदर होने वाली सभी उपपच्यी क्रियाए हो पाती हैं परिभाषा की तरह से समझे तो भोजन में शामिल वह तत्व जो हमारे शरीर को वृद्धि और विकास में मदद करते हैं उन्हें पोषक तत्व कहा जाता है ।

पोषक तत्वों के प्रकार

अब हम आपको पोषक तत्वों के प्रकार बताएंगे कि यह कितने प्रकार के होते हैं हमारी बॉडी को हर तरह के पोषक तत्वों की जरूरत होती है जो हमारे शरीर में पोषण की कमी को पूरा करते हैं अगर किसी एक की भी कमी रह जाती है तो हमारे शरीर कमजोर बन सकता है ।

  • कार्बोहाइड्रेट्स / शुगर (Carbohydrates / Sugar)
  • वसा (Fat)
  • प्रोटीन (Protein)
  • Khanij (Minerals)
  • नमक का लवण (Salt)
  • जल (Water)
  • विटामिन (Vitamin)
  • रेशे (Fibers

मुख्य रूप से 7 पोषक तत्व है

  1. Vitamin- A
  2. Vitamin- D
  3. Vitamin – B12
  4. Vitamin – B6
  5. Vitamin – C
  6. Vitamin- E
  7. Folic Acid

दोस्तों हमें उम्मीद है कि हमने आपको जो ऊपर पोषक पोषण तत्व के बारे में जो भी जानकारी दी वह सारी आपको आ गई होगी लेकिन अगर कोई जानकारी आप हमें बता सकते है । हम हमेशा आपकी मदद करने के लिए तैयार है ।

यह भी पढ़े:

पोषण क्या हैं ?

आसान भाषा में आपको बताये तो जिस भोजन को या पोषक तत्वा को हम ग्रहण करते हैं उसे पोषण कहते हैं।

पोषण कैसे बनते हैं ?

कार्बोहाइड्रेट प्रोटीन फैट खनिज लवण (मिनरल) जल बन कर पोषण बनते हैं।

स्वपोषी (Autotrophic) विषमपोशी (Hetrotophic ) में क्या अंतर है ?

स्वपोषी वह होता है जो अपना भोजन स्वयं बनाता है विषमपोषी वह होता है जो अपना भोजन स्वयं नहीं बनाता है अतः दूसरों पर निर्भर रहता है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.