हिचकी क्यों आती है क्या कारण है | Hichki kyu aati hain in hindi

हिचकी क्यों आती है क्या कारण है | Hichki kyu aati hain in hindi

हिचकी क्यों आती है क्या कारण है | Hichki kyu aati hain in hindi

दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे के हिचकी क्यों आती है क्या कारण है | Hichki kyu aati hain in hindi, इसके कारण क्या हैं किस वजह से हचकी आती हैं अक्सर लोगो को जब हिचकी आती हैं तो उनके चेहरे पर एक हलकी सी मुस्कान आ जाती हैं क्योकि हमारे देश में यह बात मशहूर हैं के अगर हिचकी आयी हैं तो कोई आपका चाहने वाला आपको याद कर रहा हैं, हक़ीक़त में यह सही तुर्क नहीं हैं इसका एक वैज्ञानिक कारण हॉट हैं। और जब दूसरी बार आती हैं तो सब इससे मज़ाक में ेते हैं लेकिन जब लगातार हचकी आती हैं तो थोड़ा परेशां हो जाते हैं ऐसा क्यों हो रहा हैं।

हिचकी क्यों आती हैं | Hichki kyu aati hain

अब हम आपको बताते हैं हिचकी (Hiccup ) क्यों आती हैं ? Hichki(Hiccup ) kyu aati hain यह सांस की वजह से आती हैं , हिचकी आने की महत्वपूर्ण वजह हैं , हिचकी सबसे पहले आपके शरीर के सबसे निचले हिस्से डायफ्राम से आणि शुरू होती हैं , सांसे लेने के दौरान फेफड़ो में हवा भर जाती हैं , इस वजह से साइन और पेट के बिच का हिस्सा जिसे डायफ्राम कहते हैं , उसमे कम्पन होने लगता हैं , और आप जब सांस लेते हाँ तो डायफ्राम इससे निचे खिंच ता हैं, और सांस लेने पर वापस आराम की स्तिथि में आ जाता हैं।

और जब डायफ्राम सिकुड़ जाता हैं तो इस से सांस लेने का बहाव रुक जाता हैं जिस की वजह से हिचकी आने लगती हैं। डायफ्राम एक तरीके से अपना काम करता हैं लेकिन जब से कोई दिक्कत आती हैं तो इसमें मरोड़ होने लगती हैं जसकी वजह से आपकी जो हवा रहती हैं वह रुक जाती हैं और आवाज़ निकलने में भी दिक्कत होती हैं।

वैज्ञानिको के अनुसार , जब पाचन और श्वास नाली में कोई गड़बड़ी होती हैं या उसमे को दिक्कत आती हैं उसकी वजह से भी इंसान को हिचकी आ सकती हैं , या अगर कोई व्यक्ति ज़्यादा तीखा खाना खा लेता हैं तो उस से भी हिचकी आने लगती हैं ,या फिर अगर कोई शराब का सेवन करता हैं और जब सेवन ज्यादा हो जाता है तो उसकी वजह से बीच के आने लगती है या फिर अगर कोई कोई व्यक्ति जल्दी-जल्दी बिना चावल खाना निकलने लग जाता है तो उसकी वजह से भी हिचकी आने लगती है ।

इसकी के दौरान आने वाली आवाज से संबंध कार्ड से जुड़ा हुआ है दरअसल डायाफ्राम के सिकुड़ने से Vocal Cards बंद हो जाती है , इसको वजह से भी आपके मुंह से हिचकी की आवाज आने लगती हैं अंदर यह आवाज आपकी आवाज ना निकलने को वजह से ऐसी आती हैं।

वैसे पुलिस के आने के करीब आ जा सकती है इसमें कोई शरीर की होती है और कुछ मानसिक होती है ऐसा इसलिए होता है कि जो तांत्रिक से आए दिक्कत डायाफ्राम से जुड़ी हुई होती है , अगर आप ज्यादा नर्वस या साइड हो जाते हैं यह कार्य बेहतरीन किया बहुत अधिक शराब को पी लेते हैं तो आपको उससे भी इसकी आ जाती है , हिचकी आने की वजह होती है कि आपके मुंह में हवा भर जाती है,

हमारे अंदर का नर्वस सिस्टम अंदर ही अंदर एक दूसरे से जुड़ा हुआ है हमारी पैर की नस दिमाग तक जाती है तो कोई नस कहां पर जाती है, वैसे तो आमतौर पर हिचकी बस थोड़े समय के लिए ही आती है लेकिन अगर कोई आपको लंबे समय तक आ रही है तो वह आपके डायाफ्राम को पहुंचने वाले नुकसान की वजह से आती है ।

जो हिचकी आपको लंबे समय तक रहती है वह नर्वस सिस्टम के हिसाब से भी जुड़ी हो सकती है जैसे कि एन्सेफ्लाइटिस , मैंनेजाइटिस मेटाबॉलिक डिसऑर्डर डायबिटीज या फिर किडनी फैलियर इन वजहों से भी आपको हिचकी आने लग जाती है । और या फिर कुछ दवाओ की वजह से भी हिचकी आने लग जाती हैं।

उसकी रोकने के लिए क्या करें

वैसे तो आमतौर पर इसकी लंबे समय के लिए नहीं आती है लेकिन आपको लंबे समय के लिए आ रही है नीचे दिए गए कुछ बिंदुओं पर अमल कर के उन्हे रोक सकते हैं ।

  • हिचकी को रोकने के लिए आप ठंडा पानी पी ले सकते हैं आप एक गिलास ठंडा पानी लेंगे और अगर आपके डायाफ्राम में ऐठन होगी तो यह उसे खत्म कर देगी
  • हिचकी आने पर एक छोटे पेपर बैग मैं धीरे-धीरे और गहरी सांस लें फिर धीरे-धीरे सांसों के जरिए पेपर बैग को फुलाए यह ब्लड में कार्बन डाइऑक्साइड को और ज्यादा गहरा कर सकता है ध्यान रहे इसके लिए आप कभी भी प्लास्टिक बैग का उपयोग ना करें ।
  • हिचकी को रोकने के लिए आप कुछ देर के लिए अपनी सांस रोक सकते हैं कुछ सेकंड के लिए अपनी सांस रोक कर रखने से आपके शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड फैक्ट्री रूप से बनी रहती है यह डायाफ्राम में ऐठन को खत्म करने में मदद करता है और ऐसे हिचकी को रोका जा सकता है ।
  • अगर आपको हिचकी ज़्यादा समय से आ रहा हैं तो आप आपकी जीभ को बहार निकल कर उससे रोक सकते हाँ यह सुन ने में अजीब तो लगेगा लेकिन इस से आपकी हिचकी जा सकती हैं क्योकि जीभ एक दबाओ बिंदु हैं और इससे बहार रखने से आपके आपके गले की मास पेशिया उत्तेजित होंगी जिस से आपके डायफ्राम पर असर होगा और आपकी हिचकी रुक जाएगी।

यह भी पढ़े:

Leave a Comment

Your email address will not be published.