ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम क्या है l Gramin Rojgar Srijan Karyakram Kya Hai

ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम क्या है l Gramin Rojgar Srijan Karyakram Kya Hai

ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम क्या है l Gramin Rojgar Srijan Karyakram Kya Hai

ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम क्या है l Gramin Rojgar Srijan Karyakram Kya Hai – तो दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम क्या है l Gramin Rojgar Srijan Karyakram Kya Hai के बारे में बताने वाले तो आर्टिकल ध्यान से पड़ियेगा ताकि आपको इसके बारे में सारी जानकारी प्राप्त हो सके तो आइये जानते है, ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम क्या है l Gramin Rojgar Srijan Karyakram Kya Hai

ग्रामीण रोज़गार सृजन कार्यक्रम (REGP) क्या है?

भारत को गाँवों का देश कहा जाता है। पर वर्तमान में हालात बदल गये हैं। गाँवों के युवा रोजगार की तलाश में अपना गाँव छोड़कर शहरों की ओर पलायन कर रहे हैं। ऐसे में गाँव उजाड़ होते जा रहे हैं। सरकार की मंशा है कि गाँव के युवा अपने इलाके में ही रहकर जीविकापार्जन करें। जिससे कि गाँव गुलजार रहे एवं ग्रामीण युवाओं को शहरों की ओर पलायन भी न करना पड़े।

सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के ज्यादा अवसर प्रदान करना चाहती है। केंद्र सरकार ग्रामीण युवाओं को खुद का स्वरोजगार करने के लिए प्रोत्साहित करना चाहती है। इसके लिए भारत सरकार के जरिये ग्रामीण रोज़गार सृजन कार्यक्रम – Rural employment generation program (REGP) शुरु करा गया है।

जो ग्रामीण युवा अपने क्षेत्र में ही अपना स्वरोजगार प्रारम्भ करना चाहते हैं, उनकों इस सरकारी योजना के माध्यम से अधिकतम 5 लाख रुपये का बिजनेस लोन, बिना कुछ गिरवी रखे मुहैया कराया जाता है। बिजनेस लोन की स्वीकृति जिला उद्योग केंद्र (DIC) के द्वारा होती है।

ग्रामीण रोज़गार सृजन कार्यक्रम (REGP) का उद्देश्य

ग्रामीण रोज़गार कार्यक्रम की शुरुवात ग्रामीण गरीबी एवं बेरोज़गारी को समाप्त करने के लक्ष्य को लेकर साल 1980 में हुई थी। ग्रामीण रोज़गार सृजन कार्यक्रम का उद्देश्य ग्रामीण बेरोज़गार श्रमिकों के लिए ग्रामीण स्वरोजगार जैसे कि मछली पालन, सौर उर्जा (सोलर सिस्टम) प्लांट लगाना एवं पशुओं के लिए चारा विकास प्लांट लगाना था। इस प्रकार के स्वरोजगार को चुनने वाले युवा/श्रमिकों को आर्थिक सहायता के तौर पर सरकारी लोन मिलने की व्यवस्था केन्द्र सरकार के जरिये की गई है।

ग्रामीण रोज़गार सृजन कार्यक्रम (REGP) की विशेषताएं

  • ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार सृजन सुनिश्चित करना।
  • ग्रामीण स्वरोजगार के अवसरों को बढ़ावा प्रदान करना।
  • गाँव के युवाओं के लिए गाँव के पास ही रोजगार सुनिश्चित करना।
  • स्वरोजगार प्रारम्भ करने के लिए बहुत कम ब्याज दर पर लोन की उपलब्धता सुनिश्चित करना।
  • यह सुनिश्चित करना कि गाँवों से युवाओं का पलायन कम हो सके या रुक जाए।

ग्रामीण रोज़गार सृजन कार्यक्रम (REGP) की पात्रता

Rural employment generation program (REGP) यानि ग्रामीण रोज़गार सृजन कार्यक्रम का लाभ पाने के लिए वह सभी भारतीय नागरिक पात्र हैं, जो ग्रामीण इलाकों में रहते हैं एवं जिनकी उम्र 18 वर्ष से अधिक है।

ग्रामीण रोज़गार सृजन कार्यक्रम (REGP) के लिए जरूरी कागजात

  • ग्रामीण रोजगार कार्यक्रम का भरा हुआ फॉर्म
  • पहचान पत्र के लिए आधार कार्ड, राशन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड एवं कोई भी ऐसा पहचान पत्र जिसे सरकार ने जारी किया हो।
  • निवास प्रमाण पत्र जिसे सरकार ने जारी किया हो, जैसे की आधार कार्ड, राशन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड और तहसील से जारी किया गया निवास प्रमाण पत्र
  • यदि आरक्षित जाति से हों तो जाति प्रमाण पत्र
  • जो स्वरोजगार प्रारम्भ करना चाहते हों उसका प्रोजेक्ट रिपोर्ट (इसमें विवरण देना होता है कि कौन सा बिजनेस शुरु करने के जा रहे हैं। इस बिजनेस में कुल कितना खर्च आएगा एवं कहां – कहां खर्च करना होगा आदि)
  • अपने ग्राम प्रधान से जारी करवाया गया ग्रामीण प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता विवरण

लोन कहां से मिलेगा?

सभी आवश्यक कागजातों को इक्कठा करने के बाद जिला उद्योग कार्यालय में फॉर्म को जमा करना होता है। यदि जिला उद्योग कार्यालय से फॉर्म पास हो जाता है एवं लोन स्वीकृत हो जाता है तो निम्न वित्तीय संस्थाओं में से किसी एक से लोन मिल सकता है।

  • 27 सरकारी बैंक
  • सभी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक
  • सहकारी बैंक
  • लिस्टेड प्राइवेट बैंक
  • लघु उद्योग विकास बैंक

यह भी पड़े :

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *