Gandhi Jayanti Speech in Hindi 10 Lines, for Students, Teachers, 100 Words, Download

Gandhi Jayanti Speech in Hindi 10 Lines, for Students, Teachers, 100 Words, Download

Gandhi Jayanti Speech in Hindi 10 Lines, for Students, Teachers, 100 Words, Download

Gandhi Jayanti Speech in Hindi 10 Lines, for Students, Teachers, 100 Words, Download – तो दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको गाँधी जी के जीवन के बारे में कुछ पंक्तिया बताएँगे जिनको पड़के आप गाँधी जयंती पर इस आर्टिकल के माध्यम से अपनी स्पीच को तैयार कर सकते है तो आर्टिकल ध्यान से पढ़ियेगा ताकि आप अपनी स्पीच अच्छे से तैयार कर सकते है। तो आइये जानते है,

Top 10 Lines On Mahatma Gandhi Jayanti In Hindi

महात्मा गांधी किसी परिचय के मुहताज नहीं है, भारत को अंग्रेजों से आजादी दिलाने में महात्मा गांधी ने सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। महात्मा गांधी को लोग प्यार से बापू भी बुलाते हैं। भारतीय स्वतंत्रता संग्राम से अतुलनीय योगदान के लिए उन्हें राष्ट्रपिता के नाम से संबोधित किया जाता है। 2 अक्टूबर 2022 को महात्मा गांधी की 153वीं जयंती मनाई जा रही है। ऐसे में अगर आपको महात्मा गांधी पर 10 लाइन का निबंध या भाषण लिखना है तो हम आपके लिए सबसे बेस्ट महात्मा गांधी पर 10 लाइन लेकर आये हैं, जिसकी सहायता से आप आसानी से महात्मा गांधी पर 10 लाइन लिख सकते हैं। आइये जानते हैं महात्मा गांधी पर 10 लाइन कैसे लिखें।

Gandhi Jayanti Speech in Hindi 10 Lines

  1. भारत में, महात्मा गांधी एक किंवदंती एवं एक प्रेरक व्यक्तित्व हैं जिन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ हमारी आजादी के लिए लड़ाई लड़ी एवं सफलता हासिल की। वह महान उपदेश एवं क्रमबद्ध ज्ञान के साथ हमारे लिए एक महानायक है।
  2. महात्मा गांधी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी है। उनका जन्म पोरबंदर गुजरात में 2 अक्टूबर, 1869 को एक हिंदू परिवार में हुआ था। उन्हें महात्मा एवं बापू जी भी कहा जाता है।
  3. जब अंग्रेजों ने भारत में अपना शासन शुरू किया, तब बापू कानून की पढ़ाई के लिए इंग्लैंड में थे। अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, वे भारत वापस आ गए एवं ब्रिटिश शासन के खिलाफ आवाज उठाने के लिए भारतीयों का समर्थन करना शुरू कर दिया।
  4. उन्होंने अहिंसा के क्षण की शुरुआत की क्योंकि वह चीजों को एक महान तरीके से समाप्त करना चाहते हैं। वह कई बार नाराज हुए, फिर भी वे भारत की स्वतंत्रता के लिए अपनी शांतिपूर्ण लड़ाई के साथ आगे बढ़े।
  5. भारत आने के बाद, वह एक भाग के रूप में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में सम्मिलित हो गए। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का हिस्सा होने के नाते, उन्होंने असहयोग, सविनय अवज्ञा, सत्याग्रह, दांडी मार्च एवं बाद में भारत छोड़ो आंदोलन जैसे विभिन्न स्वतंत्रता क्षणों की शुरुआत की, जो एक दिन प्रभावी रहे एवं भारत को एक अवसर प्राप्त करने में सहायता की।
  6. अपनी महान रणनीतियों एवं एक स्वतंत्रता सेनानी होने के कारण, उन्हें कई बार गिरफ्तार किया गया एवं जेल भेजा गया। पर, उनके समर्पण एवं उच्च भावना ने उन्हें न्याय के लिए अपनी लड़ाई जारी रखने में मदद की।
  7. राष्ट्रपिता के रूप में कहे जाने वाले, उन्होंने भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त करने एवं एक स्वतंत्र देश जीने के लिए अपने सभी प्रयास किए। उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन के लिए आगे बढ़ने के लिए सभी जातियों, धर्मों, जाति, समुदाय, उम्र या लिंग के लोगों की एकता बनाई, जिसका उन्होंने इस अवधि के दौरान उपयोग किया।
  8. उनके सभी समर्पण ने अंततः अंग्रेजों को भारत छोड़ने एवं 15 अगस्त 1947 को अपने देश वापस जाने के लिए मजबूर कर दिया, जिसे हम सभी हर साल भारत स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं।
  9. अफसोस की बात है कि वह आजादी के बाद अपना जीवन जारी नहीं रख सके क्योंकि 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे द्वारा उनकी हत्या कर दी गई थी।
  10. महात्मा गांधी की मौत के बाद पूरे देश में दंगों जैसा माहौल हो गया था, पर समय रहते तत्कालीन सरकार ने पूरी व्यवस्था को संभाल लिया था। उनके अंतिम संस्कार में देश एवं दुनिया से भी लोग सम्मिलित हुए।

Gandhi Jayanti Speech in Hindi 10 Lines

  1. गाँधी जी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 में हुआ था।
  2. महात्मा गाँधी का जन्म स्थान गुजरात का पोरबंदर शहर है।
  3. 2 अक्टूबर को भारत में पूर्ण अवकाश रहता है।
  4. गाँधी जी के पिता का नाम करमचंद गाँधी एवं माता जी का नाम पुतली बाई था।
  5. महात्मा गाँधी जी का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गाँधी था।
  6. गाँधी जी का विवाह 15 वर्ष की उम्र में कस्तूरबा गाँधी जी से हुआ था।
  7. गाँधी जी राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य थे।
  8. गाँधी जी ने यूनिवर्सिटी ऑफ़ लंदन से क़ानून की पढ़ाई पूरी करि थी।
  9. महात्मा गाँधी जी गोपाल कृष्ण गोखले जी को अपना राजनितिक गुरु मानते थे।
  10. गाँधी जी ने अंग्रेजो से भारत को स्वतंत्रता दिलाने के लिए असहयोग आंदोलन एवं सविनय अवज्ञा आंदोलन जैसे आंदोलन चलाये।
  11. गाँधी जी को बापू, महात्मा, राष्ट्रपिता आदि नामो से भी जाना जाता है।
  12. 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोडसे ने गाँधी जी को गोली मार उनकी हत्या कर दी थी ।
  13. महात्मा गाँधी जी की समाधी दिल्ली में स्थित है।
  14. गाँधी जी की समाधि का नाम राजघाट है।

यह भी पड़े :

Leave a Comment

Your email address will not be published.