Divide Kaise Karte Hain Batao in Hindi Bataiye Math Mein

Divide Kaise Karte Hain Batao in Hindi Bataiye Math Mein

Divide Kaise Karte Hain Batao in Hindi Bataiye Math Mein

Divide Kaise Karte Hain Batao in Hindi Bataiye Math Mein – तो दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको भाग (Divide के बारे में बताने वाले है की Divide क्या होता है भाग Divide कैसे करते है, सभी बातो को हम इस आर्टिकल में बताने वाले है तो आर्टिकल ध्यान से पढ़ियेगा ताकि आपको भाग (Divide) के बारे में सारी जानकारी प्राप्त हो सके तो आइये जानते है इसके बारे में

भाग ( Division ) 

       भाग क्या है , ये इतना महत्वपूर्ण क्यों है, गणित में भाग का बड़ा योगदान है। इसके बगैर गणित की क्रिया करने के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता है वैसे भाग गणित की आधारभूत क्रियाओं में से एक है। गणित की चार आधारभूत क्रियाएँ :  

  • जोड़ ( Additions, Conjunction ) 
  • घटाव ( Diminis,  Substract ) 
  • गुणा ( Multiplication, Multiplying  ) 
  • भाग ( Division ,  Quotient) 

भाग सीखना उतना ही कठिन होता है उतना ही हम इस पर ध्यान नहीं देते। दोस्तों भाग ही नहीं इसके अलावा कोई भी काम सीखना, समझना या पाना हमारे मन पर ज़्यादा निर्भर करता। यदि हम कोई भी काम पूरे मन से करें तो हमें सफल होने की संभावना ( possibility ) उतनी ही अधिक होती है। एक बात और है हमारा मन हमारी बात तभी सुनता है जब इसे किसी भी कार्य को करने में अच्छा या महत्वपूर्ण लगे या फिर आवश्यकता पड़ी हो। मन की सबसे बड़ी कमजोरी है उसकी लालच जो अच्छी या बुरी दोनों प्रकार की होती है। हमें इसी का फायदा उठाकर अपने कार्य को अंजाम देना चाहिए। 

भाग कैसे सीखें? 

इस आर्टिकल का मुख्य उद्देश्य यह है कि जिसको भाग करना न आत हो उसको भाग करना आ जाये। जी हाँ दोस्तों हममें से अधिकतर लोग ऐसे हैं कि जिनको भाग करना नहीं आता है मुझे आज भी वो दिन याद है जब मुझे भाग नहीं आता था तब मैं बहुत ग्लानि या बेइज्जती महसूस करता था। एवं फिर मैंने ये निर्णय लिया कि मुझे भाग सीखना है तो सीखना है उसके बाद मैं हर तरह से सीखने में जुट गया एवं सीख कर ही दम लिया।  जब आप किसी कार्य को करते हो तो यह सब तो लगता ही है एवं जब आप भाग करना नहीं जानते हो तो यह कमी आपको बहुत अधिक खलती है। तो चलिए अब सीख लिजिए। दोस्तों हम इसमें ऐसे – ऐसे तरीके जानेंगे जिसकी मदद से आप बहुत आसानी से भाग करना सीख जाओग वो भी बहुत कम वक़्त में।

मित्रों भाग करना हो या कोई काम जब हमारा मन उस काम को करने को राजी ना हो तो हम वो काम नियमों को जानने के बाद भी नहीं कर पाते हैं। कहने को तो सभी कहते हैं कि इस नियम से यह करो एवं उस नियम से वो करो पर यह कोई नहीं बताता या फिर बताना नहीं चाहता या फिर जानता ही नहीं कि हम क्या करें कि हमारा मन एवं मस्तिष्क दोनों उस कार्य को करने के लिए तैयार हो जाये। जब हमारे मन को कोई कार्य या वस्तु अच्छी लगने लगती है तो हम उस कार्य को हर संभव करने लगते हैं। हम इस पोस्ट में कुछ ऐसे तरीकों के बारे में जानेंगे जो हमे उत्साहित करेगा भाग को सीखने एवं समझने में। जो की इस प्रकार हैं

  • भाग की सहायता से हम किसी भी महीने में किसी भी तारीख के दिनों की गणना कर सकते हैं। माना की हमें सन् 2017 के किसी महिने में किसी तारीख को दिन पता करना है वो भी बिना कैलेण्डर और बगैर मोबाइल के तब कैसे करोगे ।
  • भाग की सहायता से ऐसे सवालों के हल निकाल सकते हैं जिसका अभी तक आपको पता भी नहीं है। जैसे की क दूना 9,  क आठे 1, क आठे 12 (  बारह  ),  क दूना 0 ( शून्य  )  इस तरह के किसी भी सवाल  को‌ हल कर सकते हैं।

भाग के मुख्य अंग 

सर्व प्रथम हम भाग में उपयोग होने वाले शब्दों का मतलब जान लेते हैं जिसे हम भाग के मुख्य अंग कह सकते हैं।
भाग के मुख्य अंग इस प्रकार है –

  • भाजक 
  • भाज्य 
  • भागफल 
  • शेषफल 

भाजक ( Divider ) 

वह संख्या जिससे किसी संख्या में भाग दिया जाता है भाजक कहलाती है ।  जैसे की 6 / 2 में  भाजक है। 

भाज्य ( Divisible ) 

वह संख्या जिसमें किसी संख्या से भाग दिया जाता है भाज्य कहलाती है। जैसे की  6 / 2 में  6 भाज्य  है।

भागफल ( Quotient )     

किसी संख्या में भाग जितनी बार दिया जाता है वह संख्या भागफल कहलाती है।  जैसे की 6 / 2 = 3, में 3 भागफल है।

शेषफल ( Remnant ) 

वो संख्या जो भागफल से प्राप्त मान को भाज्य वाली संख्या में से घटाने के बाद जो भाग बचता है वह शेषफल कहलाता है।

भाग के नियम 

भाग के कुछ नियम हैं जिनकी मदद से हम भाग करते हैं। इसे ध्यान से पढिये। भाग के नियम इस प्रकार है।

  • भाजक से भाज्य में ऐसे भाग करते हैं कि प्राप्त होने वाली संख्या भाज्य से पूरा कट जाये। यदि ऐसा नहीं है तो भाजक से इतनी बार गुणा करें कि प्राप्त हुई संख्या भाजक से थोड़ा कम हो पर ज्यादा न हो। 
  • फिर इस प्राप्त हुई संख्या को भाज्य से घटा लेते हैं। 
  • जो भी शेष बचता है फिर उसमें पहले की भाँति भाग करते हैं। 
  • एवं फिर पहले की तरह भाज्य से घटा लेते हैं। 
  • ये क्रिया बार-बार करते हैं जब तक कि शेषफल शुन्य न हो जाए। 
  • पर कुछ ऐसा भाग हैं जिनका शेषफल शुन्य नहीं होता है। जैसे की 1 / 3,  2 / 3,  7 / 6 आदि। ये अपवाद हैं क्योंकि इनका शेषफल शुन्य नहीं होता है। इस प्रकार के भाग को उचित भिन्न भी कहा जाता हैं। 

विशेष नियम : जब भाजक ( a/b, a<b )  बड़ा हो भाज्य से,

  • जब भाजक बड़ा हो भाज्य से या फिर जब भाग एक ( 1 ) से कम बार जाने वाला होता है तब भाग पहले शून्य बार जायेगा। इसके बाद ही भाग को पूरी तरह से हल किया या काटा जा सकता है । जैसे की 1/2, 4/5, 10/11, 120/121 आदि। 

भाग करने के तरीके  

सबसे पहले हम ये जान लेते हैं कि भाग मुख्य रूप से कितने तरह का होता हैं।भाग मुख्य रूप से 3 तरह का होता है।

  • पूर्ण रूप से विभाजित होने वाला भाग या पूर्ण भागफल वाला भाग । जैसे की 12 / 3 = 4, 412 / 4 = 103, 144 / 12 = 12 आदि। इनमें 4, 103, 12  पूर्ण भागफल / भजनफल है। 
  • दशमलव भागफल / भजनफल वाला भाग। जैसे की 13 / 4 = 3.25, 41 / 2 = 20.5, 3 / 2 = 1.5 आदि। इसमें 3.25,  20.5,  1.5  दशमलव भागफल / भजनफल है। 
  • दशमलव पर अपूर्ण  भागफल / भजनफल वाला भाग। जैसे की 2 / 3  = 0.6667, 1 / 3 = 0.3334, 7 / 6 = 1.16667 इसमें 0.6667, 0.3334 एवं  1.16667 अपूर्ण  भागफल / भजनफल वाला भाग है। 

आइये देखते हैं भाग करने के आसान तरीके

A. पूर्ण रूप से विभाजित होने वाला भाग

सर्व प्रथम हम एक अंक वाली संख्याओं से भाग करना सीखेंगे। जैसे की 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8,9  एवं एक अंक है जिसका नाम है शून्य ( zero) यानि की ” 0 ”  शून्य एक ऐसा अंक है जिससे किसी भी संख्या में भाग करना एक अनसुलझी या रहस्यमयी बात है। पर मैं आपको यह बात बता दूंँ कि मैं आपको शून्य से भाग करने के बारे में भी बताउंगा पर उससे पहले आप भाग करना सीख लें। यदि आप भाग करना जानते हैं तो आप यह आर्टिकल शुन्य से शुन्य में भाग करना पढ़ सकता हैं।

उदाहरण 6 / 2 = ? 

हमे  में 2 से भाग करने के लिए बस इतना करना है कि 2 का गुणा / पहाड़ा इतनी बार पढ़ना है कि 6 आ जाये। 2 का पहाड़ा तीन बार पढ़ने पर 6 आ जाता है। अतः 6 / 2 = 3  होगा।

                       या

मन लीजिये हमे 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8,9 में से किसी एक संख्या से किसी अन्य संख्या में भाग करना है। चलो मानलो कि 2 से  में भाग देना है। चूँकि संख्या 6 को 2 से भाग करना है। तो संख्या  6 को 2 बराबर भागों में विभाजित करना होगा ।
इसलिए  संख्या  6 के दो बराबर भाग = 3 + 3 

अतः 6 / 2 = 3

यदि  से संख्या  6 में भाग देना है तो संख्या 6 को 3 बराबर भागों में विभाजित करना होगा। तब संख्या  6 के 3 ( तीन  )
बराबर भाग = 2 + 2 + 2 होगा।
अतः से संख्या  6 में भाग या  6 / 3 = 2 

मान लीजिये तीन लड़के हैं और 6 आम बाटना है

यदि तीनों लड़कों में बराबर बाँटना है तो बताओ कितने-कितने आम तीनों को मिलेगा। दो – दो आम तीनों लड़को को मिलेगा।

B. दशमलव भागफल वाला भाग

इस तरह का भाग करना सबको समझ में नहीं आता क्योंकि दशमलव वाला भाग थोड़ा अलग होता है। यदि आपको दशमलव का भाग नहीं समझ में आता है तो कोई बात नहीं अब आपको आ जायेगा। तो आइये शुरू करते हैं दशमलव वाला भाग।

उदाहरण :  

7 ÷ 2 को हल करिये। 

हल :  

हम जानते हैं कि भाजक से भाज्य में जब भाग करते हैं तो ये देखते हैं कि भाजक का गुणनफल भाज्य से ज्यादा ना हो। यहाँ पर में से भाग पहले 3 बार जाता है फिर 0.5 बार तो भागफल का कुल योग = 3.5

इसको हम कई विधियों के द्वारा हल करेंगे। इसमें मैं एक ऐसी विधि को उजागर  करने जा रहा हूँ जो आपको समझने में इतना लाभदाई होगा कि आप कह देंगे कि हाँ भाई ये सही है। इसको हम प्राथमिक विधि कह सकते हैं। तो आइये देखते हैं इस विधि को। निचे दिये भाग को देखिए

इस विधि में हमे बस इतना करना है कि जितनी भी बार हम भाग को आसानी से काट सके उसे काट लें। जैसे ऊपर आप देख सकते हैं कि हमने एक-एक बार ही भाग दिया है । इस तरह भागफल 3.5 आता है। यह विधि कोई नई नहीं है। ये विधि इस पोस्ट में सम्मिलित करने का सिर्फ एक ही मकसद है तथा वह यह है कि आप सभी को किसी भी प्रकार से भाग समझ में आ जाये ।

यह भी पड़े :

डिवाइड कैसे करते हैं?

प्रॉब्लम लिखने के लिए एक डिवीजन बार (bar) का यूज करें। डिवाइजर, जिस संख्या से आप डिवाइड कर रहे हैं, को डिवीजन बार के बाहर (एवं बाईं तरफ) लिख लें। डिवाइडेंड, जिस संख्या को आप डिवाइड कर रहे हैं, को डिवीजन बार के अंदर (दाईं तरफ एवं नीचे) लिख लें। शॉर्ट डिवीजन करने के लिए, आपके डिवाइजर में एक डिजिट से अधिक नहीं हो सकती है।

डिवीजन में क्या सवाल किया जाता है?

एक डिवीजन समस्या के भाग

एक विभाजन समस्या के तीन मुख्य भाग होते हैं। लाभांश, भाजक तथा भागफल। लाभांश वह नंबर है जिसे विभाजित किया जाएगा। भाजक “लोगों” का नंबर है जिसमें नंबर को विभाजित किया जा रहा है। भागफल उत्तर है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.