कॉर्न फ्लोर क्या होता होता हैं | Corn Flour Kya Hota Hai Paribhasha In Hindi Mein

कॉर्न फ्लोर क्या होता होता हैं | Corn Flour Kya Hota Hai Paribhasha In Hindi Mein

कॉर्न फ्लोर क्या होता होता हैं | Corn Flour Kya Hota Hai Paribhasha In Hindi Mein

कॉर्न फ्लोर क्या होता होता हैं | Corn Flour Kya Hota Hai Paribhasha In Hindi Mein – इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कॉर्न फ्लोर क्या होता होता हैं ? Corn Flour Kya Hota Hai Paribhasha In Hindi Mein हैं , और इसका इस्तेमाल कहां पर किया जाता है । जैसा के दोस्तों आपको पता होगा के कॉर्न का मतलब मक्का होता हैं या आप इसे भुट्टा भी कह सकते हैं क्योकि जो भुट्टा आप कहते हाँ उससे Corn -Cob कहते हैं, और आपने मक्का को दुकानों मॉल के अंदर देखा होगा , कही पर अपने मक्का देखि होगी तो कही पर आपने इसका आता देखा होगा।

कॉर्न फ्लोर क्या होता होता हैं | Corn Flour Kya Hota Hai Paribhasha In Hindi Mein
कॉर्न फ्लोर क्या होता होता हैं | Corn Flour Kya Hota Hai Paribhasha In Hindi Mein

कॉर्न फ्लौर मेदे की तरह होता हैं मुलायम और चिकना और यह दिखने में सफ़ेद कलर का होता हैं, कॉर्न फ्लौर बनता मक्का से ही हैं लेकिन यह सफ़ेद होता हैं और मक्के के आते से अलग भी होता हैं मक्के का आटा आपको पिले कलर का दीखता हैं जो मक्का को सूखा कर उससे पीस कर बनाया जाता हैं , मक्के का आता इंसान के खाने पर निर्भर करता हैं ।

जैसे कोई इंसान मक्के के आटे को थोड़ा मोटा पिस आता है तो कोई उसको एकदम बारीक पिस्ता है यह खाने वाले पर निर्भर करता है कि मक्का का आटा कैसा पिसेगा , वैसे तो मक्का के आटे का बहुत सारे पकवान बनते हैं लेकिन इसके अंदर मक्का की रोटी हमारे भारत में बहुत ज्यादा खाई जाती है और आज भी देहात के इलाकों में या फिर जो लोग देहात से ताल्लुक रखते हैं वहां मक्का की रोटी बड़े शौक से खाते हैं और पसंद आती है।

कॉर्नफ्लोर क्या होता हैं (Corn Flour Kya Hota Hai)

जब हम मक्के के दाने का छिलका उतारकर उसे पिसते हैं और जो आटा हमें प्राप्त होता है हम उसे कॉर्नफ्लोर कहते हैं कॉर्नफ्लोर का इस्तेमाल आजकल बहुत ज्यादा होने लगा है , और खास करके उसका इस्तेमाल आज चाइनीस खाने को बनाने में और उसके अंदर और ज्यादा सवाल डालने के लिए किया जाता है जैसे अगर मंचूरियन बनाना है यह चिली पटेटो बनाना है तो आप उसके अंदर कॉर्नफ्लोर डालते हैं ।

कौन-कौन फ्लोर से आपके खाने में एक अलग ही थिकनेस आती है यह आपके खाने के स्वाद को भी बढ़ा देता है यह दिखने में सफेद कलर का होता है और मार्केट में आसानी से मिल जाता है आप इसे किसी सब्जी में या कुछ आप बना रहे हैं उसके अंदर डालकर इसे इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन आप इसकी रोटी नहीं बना सकते ।

कोर्नमील मक्की के दाने को सुखा कर उसे पीस कर बनाते हैं , और इस का रंग पीला होता है , लेकिन जब हम मक्का के दाने का छिलका उतार कर उसे पिसते हैं तो जो आटा हमे प्राप्त होता हैं उसे ही कॉर्न फ्लोर कहते हैं।

कॉर्नफ्लोर के अंदर पाए जाने वाले पोषक तत्व

अब हम आपको कॉर्नफ्लोर के अंदर जाने वाली पोषक तत्वों की जानकारी देने जा रहे हैं जो आपके शरीर के लिए अगर सही मात्रा में दिए जाएं तो काफी फायदेमंद होते हैं ।

पोषक तत्वपोषक तत्वों की मात्रा
एनर्जी44 कैलोरीज
प्रोटीन1.1 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट9.1 ग्राम
फैट0.5 ग्राम
फाइबर1.2 ग्राम
विटामिन बी 1 (थियामाइन)0.17 mg
विटामिन बी 2 (राइबोफ्लेविन)0.09 mg
विटामिन बी 3 (नियासिन)1.17 mg
फोलेट विटामिन बी 927.9 एमसीजी
कैल्शियम16.9 mg
आयरन0.86 mg
मैग्नीशियम13.2 mg
फॉस्फोरस26.7 mg
जिंक0.22 mg
पोटैशियम35.7 mg

कॉर्नफ्लोर का उपयोग

अब हम आपको बताएंगे कि कॉर्नफ्लोर का उपयोग कहां किया जाता है , आपको यह भी बताएंगे कि कॉर्नफ्लोर से आप क्या बना सकते हैं ।

  • कॉर्न फ्लोर का उपयोग कटलेट ,कोफ्ता, पेठिस और इसी तरह की दीप फ्राई फूड बनाने के समय किया जाता है ।
  • कॉर्न फ्लोर का उपयोग दूध को गाढ़ा करने के लिए भी किया जाता है जब आप दूध से कुछ बनाना चाहते हैं लेकिन दूध पतला होने के करण वह जल्दी गाना नहीं हो पाता है तो आप उसके अंदर कॉर्नफ्लोर मिला सकते हैं जिससे आपका दूध जल्दी गाढ़ा हो जाता है ।
  • कॉर्नफ्लोर का इस्तमाल बेबी पाउडर में भी किया जाता हैं , कॉर्न स्टार्च का उपयोग बायोप्लास्टिक्स में भी किया जाता हैं।
  • कॉर्नफ्लोर का इस्तेमाल बीमारी में भी किया जाता है इससे ब्लड शुगर के स्तर को बनाए रखने के लिए उपयोग किया जाता है क्योंकि इस में ग्लूकोस की सप्लाई के सक्षम रुप से गुण मौजूद होते हैं ।

कॉर्नफ्लोर के फायदे

अब हम आपको बताएंगे कि कॉर्नफ्लोर के खाने से आपको क्या क्या फायदे हो सकते हैं ।

  • कॉर्न फ्लोर का सबसे बड़ा फायदा यही है के कॉर्नफ्लोर फाइबर से भरपूर होते हैं , कॉर्न फ्लोर का सही मात्रा में खाने से आपको भरपूर फाइबर प्राप्त होगा ।
  • कॉर्न फ्लोर का एक फायदा यह भी हैं के अगर आप कॉर्न फ्लोर को खाते हैं तो इस से आपका पेट लंबे समय तक भरा हुआ रहता हैं , जिस से आपको बार बार भूख नहीं लगती ।
  • कॉर्नफ्लोर को खाने से आपका पाचन तंत्र (Digestive System) क्रिया सही तरीके से होता हैं , और आपकी पेट से जुड़ी दिक्कतें कम होने में मदद मिलती हैं , इसलिए डाइट में फाइबर जरूर होना चाहिए जो कॉर्नफ्लोर में भरपूर मात्रा में होता हैं।
  • कॉर्नफ्लोर से वजन भी बढ़ता हैं बहुत सारे लोग अपना वजन बढ़ाना चाहते हैं लेकिन यह बात भी जानना बहुत ज्यादा जरूरी है कि आपका जो वजन बढ़ रहा है वह सही तरीके से बढ़ रहा है या फिर गलत तरीके से बड़ा है , अगर आपको आपका वजन सही तरीके से बढ़ाना है तो उसके अंदर आपको कॉर्नफ्लोर भी अपनी डाइट में शामिल कर लेना चाहिए कॉर्न फ्लोर में कार्बोहाइड्रेट के साथ कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो वजन बढ़ाने में मदद कर सकते हैं ।
  • कॉर्नफ्लोर का इस्तेमाल करने से आपको सूजन से भी बहुत ज़्यादा रहत मिलेगी , सर्दी के मौसम में पुरानी से पुरानी सूजन भी बहुत परेशानी दे सकती हैं कॉर्नफ्लोर के अंदर एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो ाकि सूजन काम करने में काफ मदद कर सकते हैं।

कॉर्नफ्लोर से नुकसान

जैसे कि किसी का ज्यादा सेवन नुकसानदायक होता है वैसे भी कॉर्नफ्लोर के कुछ साइड इफेक्ट होते हैं उनके बारे में हम आपको बताएंगे कि कॉर्नफ्लोर से आप क्या नुकसान हो सकते हैं ।

  • जैसे कि हम आपको वाले पैसे बता चुके हैं कि कॉर्नफ्लोर के अंदर बहुत सादा कार्बोहाइड्रेट्स होता है जो इसे अगर आप आपका वजन कम करना चाहते हैं तो यहां आपको वजन कम करने में परेशानी दे सकता है ।
  • इसमें अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट होने के कारण यह डायबिटीज के मरीज के शरीर में ब्लड ग्लूकोस के स्तर को तुरंत बढ़ा देता है जो बाद में फेट में परिवर्तित हो जाता है इसलिए यह डायबिटीज एवं मोटापे की बीमारी वाले लोगों के लिए वजन कम करने वाली डाइट में शामिल नहीं किया जा सकता ।
  • जब आप कॉर्नफ्लोर अधिक मात्रा में लेते हैं तो यह आपके शरीर में LDL को बढ़ा देता हैं , जोकि एक खराब के लिस्ट और होता है यदि यह आपके शरीर में ऑक्सिडाइज हो जाता है तो यहां एथेरोस्क्लेरोसिस का कारण बन जाता हैं , साथ ही इसका उपयोग ज्यादा करने से हृदय संबंधित समस्याएं भी हो सकती हैं।

यह भी पढ़े:

Leave a Comment

Your email address will not be published.