Caffeine Kya Hota Hai in Hindi : कैफीने क्या होता है मतलब

Caffeine Kya Hota Hai in Hindi : कैफीने क्या होता है मतलब

Caffeine Kya Hota Hai in Hindi : कैफीने क्या होता है मतलब

Caffeine Kya Hota Hai in Hindi : कैफीने क्या होता है मतलब – तो दोस्तों इस आर्टिकल में हम आपको Caffeine के बारे में बताने वाले है कैफीन क्या होता है, इसका उपयोग, इसके फायदे और नुकसान सभी को हम इस आर्टिकल में बताएँगे तो आर्टिकल ध्यान से पढ़िए ताकि आपको कैफीने के बारे में पूरी जानकारी मिल सके तो आइये जानते है क्या होता है कैफीन

कैफीन क्या होता है l Caffeine Kya Hota Hai ?

कैफीन एक कैमिकल है, जो कि चाय, कॉफी, कोला आदि उत्पादों में पाया जाता है। यह आमतौर पर दिमागी सक्रियता को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करा जाता है। इसलिए कैफीन के फायदे भी होते हैं। ये दर्द निवारक दवाओं में भी इसका उपयोग करा जाता है। कैफीन एक साइकोएक्टिव (Psychoactive) कैमिकल है, जो सीधा दिमाग को टारगेट करके मूड एवं व्यवहार पर सीधा असर करता है। वैसे कैफीन के फायदे के साथ-साथ इसके नुकसान भी हो सकते हैं, अगर इसका ज्यादा सेवन किया गया हो तो। साल 2019 में किए शोध में पाया कि अगर कोई प्रतिदिन 173 मिलिग्राम कैफीन का सेवन करता है, तो यह मात्रा सीमित है। कई शोध यह भी बताते हैं कि नियमित मात्रा में कैफीन के सेवन से कई हेल्थ बेनिफिट मिलते हैं। दिमाग संबंधी बीमारी, लिवर की बीमारी के साथ कई तरह के कैंसर की बीमारी होने की संभावना भी कम हो जाती है। वहीं, इसका अधिक सेवन करने के साथ सेहत पर कई विपरीत असर भी पड़ सकते हैं। तो चलिए इस आर्टिकल में कैफीन के असर के साथ उसके फायदे एवं नुकसान के बारे में जानने की कोशिश करते हैं।

उपयोग | Caffeine ke use in hindi

कैफीन किस लिए इस्तेमाल किया जाता है?

आमतौर पर कैफीन का उपयोग निम्न स्थितियों में किया जाता है। जैसे की

  • मानसिक एवं शारीरिक थकावट को दूर करने में सहायता करता है।
  • साँस लेने में तलकीफ होने पर।

कैफीन साइट्रेट सिर्फ डॉक्टरी पर्चे पर इंजेक्शन के रूप में मिल सकता है। इसका उपयोग शॉर्ट टर्म ट्रीटमेंट के लिए किया जाता है, जैसे की नवजात को एपनिया (सांस लेने की समस्या)।

शक्ति बढ़ाने के लिए

कैफीन के असर की बात करें, तो कॉफी में उत्तेजक पदार्थ होता है। जिसे कैफीन कहा जाता है। यह प्राकृतिक तौर पर करीब 60 तरह के प्लांट से निकलता है। उन पौधों में कॉफी बीन्स, चाय पत्ती, कैकाओ बीज (cacao seeds) एवं कोला नट सीड्स सम्मिलित हैं। इसका सेवन करते ही यह सेंट्रल नर्वस सिस्टम पर सीधे असर डालता है।

यह थकान मिटाने के साथ उसको एकाग्र करने में भी मदद करता है। कॉफी के अलावा लोग कैफीन का सेवन चाय, सॉफ्ट ड्रिंक, कुछ खास एनर्जी ड्रिंक एवं चॉकलेट के रूप में करते है। वहीं कई तरह की दवा में भी कैफीन का उपयोग किया जाता है, जैसे की सर्दी, एलर्जी एवं दर्द निवारक दवा का सेवन करने पर भी आप कैफीन की मात्रा ले लेते हैं। कैफीन के फायदे से जुडी अन्य जानकारी के लिए डॉक्टर से संपर्क करें।

मुझे कैफीन कैसे लेना चाहिए | How to take Caffeine in hindi

आप डॉक्टर के निर्देशानुसार कैफीन ले सकते हैं। यदि आप बिना डॉक्टरी सलाह के कैफीन ले रहे हैं, तो ध्यान से बोतल के लेबल पर गई जानकारी को पढ़ें। जैसे- डोज की मात्रा एवं उपयोग आदि। यह खाने या बगैर खाने के साथ लिया जा सकता है। यदि, कैफीन लेने के बाद आपका पेट खराब हो जाता है, तो अच्छा होगा कि आप इसको खाने के साथ ही लें इसका सेवन कैसे किया जाए, इसके बारे में अपने डॉक्टर से सलाह ले।

मैं कैफीन को कैसे स्टोर करूं | how to store Caffeine in hindi

कैफीन को असरदार बनाए रखने के लिए रोशनी एवं नमी से दूर रूम टेंपरेचर में रखना ही सबसे ज्यादा अच्छा रहता है। भूल कर भी इसको बाथरूम या फ्रीजर में न रखें। बाजार में कैफीन के अलग-अलग ब्रांड हो सकते हैं, जिनको अलग तरीके एवं तापमान में स्टोर करने की आवश्यकता हो सकती है। स्टोर करने से पहले प्रॉडक्ट पैकेज पर दिए दिशा-निर्देशों की बारीकी से जांच करें या मेडिकल वाले से जानकारी लें। सुरक्षा की दृष्टि से बच्चों एवं पालतू जानवरों को दवा से दूर रखें। इसे टॉयलेट में फ्लश न करें एवं न ही नाली में बहाएं। इसलिए, जब यह एक्सपायर हो जाए, तो इसे उचित प्रकार से फेंकें। इस बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से सलाह लें।

कैफीन युक्त पेय पदार्थ | Caffeine product

कैफीन प्राकृतिक रूप से विशेष तरह के पौधों के बीजों, नट्स या पत्तियों में पाया जाता है। इन प्राकृतिक स्रोत्त की फसल को काटा जाता है एवं उसके बाद कैफीन युक्त आहार तथा पेय पदार्थ बनाने के लिए इसे प्रोसेस किया जाता है।

निम्न ऐसे पेय पदार्थ हैं, जो बहुत लोकप्रिय माने जाते हैं। उनमें प्रति 30 ग्राम/ 250 मिलीटर में इतना कैफीन होता है

  • डिकैफीनेटेड कॉफी – 3-12 mg
  • कोकोआ के पेय पदार्थ – 2-7 mg
  • चॉकलेट मिल्क – 2-7 mg
  • एस्प्रेसो – 240-720 mg
  • कॉफी – 102-200 mg
  • एनर्जी ड्रिंक – 50-160 mg
  • चाय – 40-120 mg
  • सॉफ्ट ड्रिंक – 20-40 mg

कुछ आहार में भी कैफीन होता है। जैसे की 28 ग्राम चॉकलेट मिल्क में 1-15 MG कैफीन पाया जाता है, वहीं 28 ग्राम डार्क चॉकलेट में 5-35 MG कैफीन पाया जाता है। आपको कई ओटीसी दवाओं में भी कैफीन की मात्रा मिल सकती है। इसकी जानकारी के लिए दवा के लेबल पर पढ़ें। ऐसा आमतौर पर सर्दी-जुकाम, एलर्जी तथा दर्द निवारक दवाओं में होता है। इसके अलावा यह वजन कम करने वाले सप्लिमेंट्स में भी होता है।

कैफीन के फायदे | Benefits of Caffeine in hindi

पहले जानें कैफीन में पाए जाने वाले तत्व

कॉफी में जहां कुछ न्यूट्रिएंट्स हैं। वहीं इसमें कई एंडीऑक्सीडेंट भी उपस्थित होते हैं। कॉफी बीन्स में कई न्यूट्रिएंट्स होते हैं। 240 ML की कॉफी में पाए जाने वाले तत्व:

  • विटामिन बी2 (रिबोडेल्विन) Ribodalvin : डीवी का 11%
  • विटामिन बी 5 (पेंटोथेनिक एसिड) Pantothenic Acid: डीवी का 6%
  • विटामिन बी 1 थायमीन thiamine : डीवी का 2%
  • विटामिन बी 3 (नियासिन) niacin : डीवी का 2%
  • फोलेट (folate) : डीवी का 1%
  • मैंगनीज (manganese) : डीवी का 1%
  • पोटेशियम : डीवी का 3%
  • मैगनिशियम : डीवी का 2%
  • फोसफोरस : डीवी का 1%

देखा जाए तो ये नंबर अधिक नहीं दिखता, पर अगर कोई व्यक्ति रोजाना अधिक मात्रा में कॉफी का सेवन करता है, तो इस मात्रा में भी इजाफा होता है।

कैफीन कई तरह से हमारे स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाता है, जैसे –

लिवर की सुरक्षा

कॉफी लिवर के खराब होने की स्थिति सिरोसिस को 84 % तक कम कर देती है। यह रोग की प्रगति को धीमा बनाती है, इलाज की प्रक्रिया में तेजी लाती है एवं असामयिक मृत्यु के खतरे को कम करती है।

लंबा जीवन

कॉफी का सेवन करने से अचानक मृत्यु होने की आशंका महिलाओं में 30 प्रतिशत तक कम हो सकती है। वहीं डायबिटीज से ग्रस्त पुरुषों में भी मृत्यु होने का खतरा कम हो जाता है।

त्वचा की देखभाल

प्रतिदिन 4 या उससे अधिक कैफीन युक्त कॉफी के कप पीने से स्किन कैंसर होने का जोखिम 20 % तक कम हो जाता है।

गठिया का रोकथाम

रोजाना 4 कप कॉफी पीने से पुरुषों में गाउट होने की आशंका 40 % एवं महिलाओं में 57 % कम हो सकती है।

आंतों को रखे स्वस्थ

3 हफ्तों तक लगातार प्रतिदिन 3 कप कॉफी पीने से फायदेमंद गट बैक्टीरिया का स्तर बढ़ता है एवं आंतों के स्वास्थ्य में सुधार आता है।

कैफीन के अन्य फायदे

कैफीन के फायदे कई सारे हैं। हालांकि, विशेषज्ञों के जरिये अभी भी बहुत से लाभों पर शोध चल रहा है। यहां बताए गए लाभों का फायदा उठाने से पहले अपने डॉक्टर का परामर्श जरूर लें।

  • कैफीन एकाग्रता और सतर्कता बढ़ाने में सहायता करता है।
  • शरीर में स्ट्रेंथ बढ़ाता है।
  • कैफीन वजन संतुलित रखने में मदद करता है।
  • यह मूड में करता है सुधार करता है।
  • कैफीन से मेमोरी शार्प होती है
  • इसके सेवन से डिमेंशिया एवं अल्जाइमर रोग का खतरा कम होता है l
  • कैफीन का इस्तेमाल करके डिप्रेशन से लड़ सकते हैं।
  • कैफीन एक्सरसाइज करने के लिए एक्टिव बनाता है।

कैफीन के साइड इफेक्ट क्या हैं | Side Effect of Caffeine in hindi

तुरंत इमरजेंसी हेल्प लाइन नंबर पे फोन करें, अगर आपको कोई गंभीर एलर्जी रिएक्शन हैं। कैफीन के फायदे समझने के बाद इसके नकारात्मक प्रभाव को भी समझें।

  1. सांस लेने में मुश्किल
  2. सीने में जकड़न
  3. मुंह, चेहरे, होंठ या जीभ में सूजन या दाने, पित्ती या खुजली हो रही हो
  4. दस्त,
  5. उल्टी,
  6. एब्नॉर्मल हार्ट बीट,
  7. छाती में दर्द
  • कैफीन के अन्य सामान्य दुष्प्रभावों में सम्मिलित हैं: नींद ना आना (अनिद्रा), घबराहट या चिंता, चिड़चिड़ापन, मितली, सिर दर्द।

ये होने वाले साइड इफेक्ट की पूरी लिस्ट नहीं है। इसलिए यह हमेशा ध्यान में रखें कैफीन के फायदे के साथ-साथ इसके साइड इफेक्ट के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

2013 में किए गए शोध के अनुसार अगर कोई गर्भवती रोजाना 300 mg कैफीन का सेवन करती है तो उस स्थिति में ये संभव है कि उसके शिशु का वजन जन्म के समय सामान्य से काफी कम हो। वहीं हालिया दिनों में किए गए 17 शोध जिनमें करीब 2 लाख 33 हजार 617 लोग सम्मिलित थे। इससे पता चला कि अगर कोई रोजाना तीन से चार कप कॉपी का सेवन करता है तो महिलाओ को छोड़ पुरुषो में हार्ट अटैक की संभावना काफी अधिक बढ़ जाती है।

हर किसी में इस तरह के लक्षण नहीं दिखाई देते, ये दूसरे तरह के भी हो सकते हैं। यदि आपके मन मे साइड इफेक्ट को लेकर कोई चिंता या शंका है, तो अपने हेल्थ एक्सपर्ट या डॉक्टर से सपर्क करें।

कैफीन खाने से क्या होता है ?

कैफीने की मात्रा अधिक होने से पेट में एसिड भी बढ़ जाता है, जिससे अपच एवं पेट में खराबी हो सकती है। इसके अलावा कॉफी के अधिक सेवन के कारण आपको बार-बार पेशाब जाने की इच्छा हो सकती है। यह शरीर में कैल्शियम के अवशोषण को भी प्रभावित कर सकता है जिससे हड्डी पतली हो जाती है।

कैफीन का मतलब क्या होता है ?

कैफीन वह रसायन है, जो कॉफी एवं चाय में पाया जाता है एवं जिसके सेवन से फुर्ती तथा ऊर्जा महसूस होती है। यह आलस्य एवं नींद दूर भगाती है। पूरी दुनिया में चाय तथा कॉफी पीने का चलन जिस प्रकार है, उसे देखते हुए कैफीन को दुनिया में सबसे अधिक प्रचलित ‘साइकोएक्टिव ड्रग’ यानी दिमाग पर असर करने वाली ड्रग कहा गया है।

यह भी पढ़े:

Leave a Comment

Your email address will not be published.